Thursday, December 8, 2022
--- विज्ञापन ---

Latest Posts

क्या आप जानते हैं सरसों तेल के फायदे और नुकसान! नहीं तो जानिए पूरे डिटेल में

Benefits And Side Effects of Mustard Oil: सरसों के तेल का सेवन सदियों से हर घर में किया जाता है। खाना बनाने के अलावा यह तेल शरीर से जुड़ी हर छोटी बड़ी समस्या के लिए लाभकारी भी है।

- Advertisement -

Benefits And Side Effects of Mustard Oil: सरसों के तेल (Sarso Ke Tel) का सेवन सदियों से हर घर में किया जाता है इस तेल को ज्यादातर लोग खाना बनाने के लिए इस्तेमाल करते हैं। लेकिन यह भोजन तक ही सीमित नहीं हैं। यह तेल शरीर से जुड़ी हर छोटी बड़ी समस्या के लिए लाभकारी हैं।

सरसों के तेल को हम एक सीधा सा घरेलू इलाज भी कह सकते हैं। जो आयुर्वेदिक डॉक्टर होते हैं, वे अक्सर बच्चों और बुजुर्गों को सरसों के तेल का सेवन करने को कहते हैं। आज हम आपको सरसों के तेल के बहुत से फायदे और नुकसान के बारे में बताएंगे जिसे जानकर आप हो जाएंगे होरन। आईऐ जानते हैं।

सरसों तेल के फायदे

इस तेल की तीखी खुशबू है जो इसे बाकी के तेलों से अलग करती है। सरसों के तेल का इस्तेमाल  सबसे ज्यादा पूर्वी भारत, बांग्लादेश, नेपाल, पाकिस्तान किया जाता हैं। सरसों के तेल में कुछ ऐसे औषधीय पाई जाती हैं, जो फंगल इंफेक्शन के लिए बेहद लाभकारी साबित होता हैं।

दांत के दर्द के लिए लाभकारी है, अगर जब भी दांतों में दर्द हो तो सरसों के तेल को नमक में मिला कर उसे अपने दांतों पर थोडी देर घस ले, अगर कभी भी कान में दर्द हो तो सरसों के तेल को कान में डाल लेने से दर्द से छुटकारा मिल जाएगा।

इसी प्रकार जोड़ो और मांसपेशियों में दर्द हो तो सरसों के तेल को गर्म करके उसे मालिश करने से दर्द से निजात पा सकते हैं और इससे शरीर की मांसपेशियां भी मजबूत होती हैं। सरसों का तेल खराब कोलेस्ट्रॉल के स्तर को भी कम करता हैं। इसके सेवन से जुकाम से भी छुटकारा मिल जाता है, बालों और इम्यूनिटी को बढ़ाने में मदद करता हैं।वही इससे शिशु की मालिश  भी की जाती है,

सरसों तेल के नुकसान

अक्सर सभी चीजों में फायदे नुकसान (Sarso Tel ke Fayde Aur Nuksan) दोनों ही देखने को मिलता है। अगर कभी चिज का सेवन अधिक होता है, तो वह सेहत के लिए हानिकारक बन जाता हैं। वहीं सरसों के तेल में इरुसिक नाम का एक एसिड मौजूद होता है, जो हृदय को नुकसान पहुंचा सकता है। इरुसिक एसिड हृदय की मांसपेशियों में लिपिडोसिस का कारण बन सकता है और  इससे हृदय के टिशू को खराब कर सकता है, कुछ लोगों को त्वचा पर सरसों तेल के इस्तेमाल करने से एलर्जी हो सकती है।

यदि एलर्जी होने के बाद त्वचा को हानि हो तो इसका उपयोग न करें। कभी भी सरसों तेल को खाली पेट ना ले इससे पेट की समस्या हो सकती हैं। वहीं अगर दस्त हो तो कच्चे सरसों का तेल खाने के साथ कभी न लें। अगर आपके नाक या  फिर स्किन में इंफेक्शन हो तो सरसों के तेल का इस्तेमाल न करें।

- Advertisement -

Latest Posts