Thursday, 18 April, 2024

---विज्ञापन---

एक महान प्रेम कहानी… कविताएं बयां करती थीं दिल का हाल, दिलीप कुमार शायरा बानो की अनोखी लव स्टोरी

Valentine Day Special: वैलेंटाइन डे के मौके पर सायरा बानो और दिलीप कुमार की अनोखी प्रेम कहानी जिसमें कुछ इस तरह  करते थे इश्क का इजहार।

dilip kumar shayra banu love story
इमेज क्रेडिट: E 24 बॉलीवुड

Valentine Day Special: आज वैलेंटाइन डे (Valentine Day) है जिसे प्यार का दिन कहा जाए तो कुछ गलत न होगा। इस दिन का कपल्स पूरे साल इंतजार करते हैं। आज के समय में अपने प्यार का इजहार करने के कई तरीके हैं, जैसे व्हाट्सअप, मेल और फोन आदि। अब जरा सोचिए उस समय के बारे में जब समाज में जब न तो फोन की कोई खास सुविधा थी और न ही ईमेल और व्हाट्सअप का जमाना था। उसके ऊपर से प्रेमियों का रोज मिलना भी मुश्किल होता था। कुछ ऐसा ही हाल था सायरा बानो (Saira Banu) और दिलीप कुमार (Dilip Kumar) का।

उम्र की सीमा की परवाह किए बिना इनका प्यार परवान चढ़ा। वेटरन एक्ट्रेस ने वेलेंटाइन डे के मौके पर अपने दिनों को याद कर खुद के सीक्रेट्स शेयर किए कि कैसे वो एक दूसरे तक अपने दिल की बात पहुंचाते थे। आइए आपको भी बताते हैं इस अनोखी प्रेम कहानी के बारे में।

अब बदल गया है जमाना  (Valentine Day Special)

अभिनेत्री ने अपने प्यार भरे दिनों को याद कर बताया कि हमारे समय में संयम था जिसमें एक अलग सुंदरता थी। उस समय टेलीग्राम मिलना एक बड़ी बात थी, और मोबाइल हुआ नहीं करते थे, अगर आप शूटिंग के सिलसिले में बाहर हैं तो टेलीफोन की सुविधा भी भूल जाओ। ऐसे में आप अपने प्रेमी और परिवार दोनों से कई दिनों तक न तो मिल सकते थे न ही बात कर सकते थे।

ऐसे करते थे इजहारे मोहब्बत

अब ऐसी स्थिति में अगर कुछ काम आता था तो वो थे पत्र (Letter)। हालांकि अब प्यार की परिभाषा बदल गई है। हाथ से लिखे लव लेटरों की जगह इमोजी, मैसेज और फोन कॉल्स ने ले ली है। शायरा ने कहा कि वो अपने पुराने दिनों की सराहना करती हैं जब दिल की बात बयां करने के लिए हमारे पास कविताएं हुआ करती थीं दोहे हुआ करते थे।

अपनी प्रेम कहानी को एक्ट्रेस ने किया याद  (Valentine Day Special)

सायरा बानो ने अपनी प्रेम कहानी को याद करते हुए उसे एक महान प्रेम कहानी बताया। एक्ट्रेस ने बताया कि उन्हें उर्दू नहीं आती थी तो जब भी दिलीप साहब उर्दू में लेटर लिखते थे तो उन्हें पढ़ने में दिक्कत होती थी जिसकी वजह से उनका मजाक बन जाता था। इसलिए मैंने ये भाषा सीखी।

सायरा को अपने दिन याद आए तो बोलीं कि हम फ्लाइट में बैठकर एयरहोस्टेस के माध्यम से लव लेटर का आदान-प्रदान करते थे। साथ ही जब लंबे समय के लिए बाहर जाते थे तो लेटर अपने प्रेमी के लेटर सिरहाने के पास रखते थे और जब याद आती थी तो पढ़ लेते थे।

यह भी पढ़ें: Valentine Day वाले दिन हुआ जन्म, ताउम्र सच्चे प्यार के लिए तरसीं

First published on: Feb 14, 2024 08:30 AM