Rekha के चंगुल से Jaya Bachchan ने ऐसे अपने पति को खींचा, सहेली को सौतन नहीं बनने दिया !

When Jaya Bachchan made it clear in front of Rekha that She will never leave her husband Amitabh Bachchan:पूजा राजपूत – बॉलीवुड की एवरग्रीन ब्यूटी(Evergreen Beauty of Bollywood) रेखा(Rekha) इस उम्र में भी लोगों का दिल चुरा ले जाने वाली खूबसूरती की मल्लिका हैं। 66 साल की रेखा का ज़िक्र जब भी छिड़ता है, तब लोगों के ज़हन में एक साथ कई किस्से ताज़ा हो जाते हैं। इनमें से कई किस्से तो बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन(Amitabh Bachchan) से जुड़े हैं। 

रेखा और अमिताभ को जुदा हुए तीन दशक का लंबा वक्त बीत चुका है। फिर भी इनकी प्रेम कहानी से जुड़े किस्से यूं दोहराएं जाते हैं जैसे ये कल कल की ही बात है।

ऐसे ही किस्सों में से एक है वो किस्सा जब अमिताभ के इश्क में दीवानी रेखा को जया बच्चन(Jaya Bachchan) ने दो टुक शब्दों में कह दिया था, कि वह अपने पति को कभी नहीं छोड़ेंगी। जया की बात सुनकर रेखा वहां से आंखों में आंसू लिए निकली थीं। लेकिन जाने से पहले एक ऐसा फैसला उन्होने लिया था, जिसने जया-अमिताभ और रेखा के रिश्ते को हमेशा-हमेशा के लिए बदल दिया था।

ये तो सब जानते हैं कि रेखा और अमिताभ की नज़दीकियां 1974 में रिलीज़ हुई फिल्म ‘दो अनजाने’ से सेट पर बढ़ी थीं। दोनों रेखा के एक दोस्त के बंगले पर गुपचुप मिलते थे। लेकिन 1978 में रेखा के लिए अमिताभ की दीवानगी जग ज़ाहिर हो गई। 

जब जयपुर में फिल्म ‘गंगा की सौगंध’ की शूटिंग के दौरान भीड़ में मौजूद एक शख्स ने रेखा पर अभद्र टिप्पणी कर दी और एंग्री यंगमैन अमिताभ ने सड़कछाप रोमियो की तरह उस शख्स की पिटाई कर दी। जिसके बाद तो हर जगह अमिताभ और रेखा के इश्क के चर्चे लोगों की जुबां पर थे।

22 जनवरी 1980 को ऋषि कपूर और नीतू सिंह की शादी में रेखा गले में मंगलसूत्र पहनकर और मांग में सिंदूर लगाकर पहुंच गई थी। हर किसी की नज़र दुल्हन नीतू सिंह से ज्यादा रेखा की मांग में सजे गहरे सिंदूर पर जा टिकी थीं। कुछ मेहमानों से मिलने के बाद रेखा अमिताभ के पास पहुंच गईं और उनसे बातें करने लगीं। ये नज़ारा देख जया बच्चन सिर झुकाकर रो पड़ी थीं।

और फिर जब रेखा-अमिताभ के रिश्ते जब को बर्दाश्त करना जया बच्चन के लिए मुश्किल हो गया, तब वो दिन भी आया जब जया बच्चन ने इस किस्से को हमेशा-हमेशा के लिए खत्म करने का फैसला ले लिया। जया बच्चन ने अमिताभ की गैरमौजूदगी में रेखा को अपने घर डिनर पर इनवाइट कर लिया। अमिताभ उन दिनों फिल्म की शूटिंग के सिलसिले में मुंबई से बाहर गए हुए थे। 

रेखा जब जया बच्चन के घर पहुंची तब जया ने उनका स्वागत खुले दिल से किया और ढेरों बातें की। लेकिन जब रेखा उनके घर से जाने लगीं तभी जया ने उन्हें टोककर कहा कि ‘चाहे जो हो जाए मैं अमित को कभी नहीं छोड़ूंगी।’ 

उस रात जब रेखा जया बच्चन के घर से निकलीं तब वो समझ चुकी थी कि अमिताभ को जया से हासिल करना उनके लिए नामुमकिन है। तब रेखा के सामने दो ही रास्ते थे। या तो अमिताभ को पा लें, या फिर सिंगल ही रहें। जया ने रेखा के सामने अपने इरादे पहले ही ज़ाहिर कर दिये थे। 

ऐसे में रेखा के पास अमिताभ से अपनी राहें जुदा करने के अलावा कोई रास्ता नहीं बचा था।