Monday, September 26, 2022
--- विज्ञापन ---

Latest Posts

CODE M SEASON 2 REVIEW : सहरद पर जवान की मौत का ज़िम्मेदार कौन ? जेनिफर विंगेट की दमदार वेब सीरीज़

- Advertisement -

कोड एम ( Code M) अपने तरह की एक अनोखी वेब सीरीज़ है, जो उस डोमेन में एंट्री करती है, जहां जाने से अच्छे से अच्छा प्रोडक्शन हाउस घबराता है। हिंदुस्तानी आर्मी के साथ जो गर्व जुड़ा हुआ है, आप जब उसमें करप्शन और फेक एनकाउंटर्स की बात करते हैं, तो समझ लीजिए कि दो-धारी तलवार पर चलते हैं। तकरीबन दो साल पहले आए Code M के सीज़न वन में मेजर मोनिका मेहरा एक आर्मी लॉयर थी, जिन्होने एक टेरेरिस्ट एनकाउंटर में कुछ ऐसा पाया, जिसने आर्मी हेडक्वॉर्टर में भूचाल ला दिया।

Code M की स्ट्रीमिंग शुरु हो गई है और इसमें मेजर मोनिका प्रमोट हो गई हैं, उन्हे मिलिट्री इंटेलीजेंस में प्रमोट कर दिया गया है। मोनिका, करगिल दिवस सेलिब्रेशन पर चीफ़ मिनिस्टर की सिक्योरिटी इंचार्ज हैं, और उस दौरान चीफ़ मिनिस्टर पर होने वाले जानलेवा हमले को वो नाकाम करती हैं। आर्मी यूनिट के अंदर हुए इस हमले की इन्वेस्टीगेशन के दौरान मेजर मोनिका को शक़ होता है कि ये साजिश आर्मी से जुड़ी हुई है, क्योंकि हमलावर ने एक ऐसा ज़हर इस्तेमाल किया है, जो सिर्फ़ आर्मी इंटेलिजेंस के पास होता है। लेकिन मोनिका की इस लीड को इग्नोर करते हुए ये केस सीबीआई के सुपुर्द कर दिया जाता है, जिसे कुरैशी साहब लीड कर रहे हैं। कुरैशी को केस हैंडओवर करते वक्त मोनिका को अहसास होता है कि कहीं तो कुछ गड़बड़ है। इसे सीआईडी के दया वाले गड़बड़ से मत जोड़िए। नतीजा सीबीआई को केस देने के बाद भी मोनिका इस केस पर अपनी एक अलग इन्वेस्टीगेशन जारी रखती है। और इसके बाद जो खुलासे शुरु होते हैं, वो मिलिट्री के लिए डिफेंस सप्लायर्स के करप्शन तक पहुंचती है, बड़े नेताओ तक पहुंचती है।

 

 

और पढ़िए –  सिनेमाघरों के बाद इस प्लेटफॉर्म पर रिलीज होगी ‘777 चार्ली’, जानें डिटेल्स

 

Code M के सेकेंड सीज़न के तार मोनिका की बीती ज़िंदगी से भी जुड़ते हैं। पर्सनल लाइफ़ और प्रोफेशन झटके झेल रही मोनिका अंगद में अपना प्यार ढूंढना चाहती है, लेकिन ट्विस्ट वहां भी है। क्लाइमेक्स तो ऐसा है कि आप बिलकुल झटका खा जाएंगे, जहां से Code M के तीसरे सीज़न की लीड भी मिलती है।

स्टोरी के मामले में Code M इस बार निखरी है, ट्विस्ट और टर्न अच्छे से डेवलप किए गए हैं। बस मुश्किल ये है कि फ्लैश के खेल में सीरीज़ कुछ ज़्यादा ही झटके खाती है। अभय चौबे का डायरेक्शन भी इस बार ज़्यादा शॉर्प हुआ है, जिसके चलते Code M के सेकेंड पार्ट को देखना ज़्यादा इंट्रेस्टिंग हो गया है।

 

और पढ़िए – The Broken News Web Series Review: सच दिखाने वालों का सच दिखाती है ये वेब सीरीज़

 

 

और पढ़िए – Ms Marvel वेब सीरीज में दिखी फरहान अख्तर की झलक, फैंस हुए एक्साइटेड

 

परफॉरमेंस पर आएं तो जेनिफर, Code M के सीज़न वन के मुकाबले इस बार ज़्यादा कॉन्फीडेंट हैं। इन्वेस्टीगेशन, एक्शन और इमोशन तीनो डिपॉर्टमेंट में जेनफिर कन्विन्सिंग लगी हैं। अंदर के किरदार में तनुज विरवानी का काम भी बहुत ही अच्छा है। और फिर स्वानंद किरकिरे तो है ही मास्टर। खलती है कास्टिंग, स्वानंद किरकिरे और जेनिफर के डैड का कैरेक्टर निभाने वाले अतुल कुमार आर्मी बैकग्राउंड के लगते नहीं हैं। हां, इनकी परफॉरमेंस से कोई कमी नहीं है।
आप सीक्रेट सर्विस बैकग्राउंड वाले शो देखने के शौकीन हैं, तो कोड M का ये सेकेंड सीजन देखना बनता है।

CODE M सीजन टू को 3 स्टार।

 

 

यहाँ पढ़िए OTT से  जुड़ी ख़बरें

 

Click Here –  News 24 APP अभी download करें

- Advertisement -

Latest Posts

Don't Miss