मिर्ज़ापुर 2 में कालीन भैया, मुन्ना और गुड्डू के डायलॉग्स ने गदर मचा दिया है ! जानिए इस बार क्या है खास !

By Aditi Oct. 23, 2020, 12:50 p.m. 1k

अदिति त्यागी - ओटीटी प्लेटफार्म की ब्लॉकबस्टर सीरीज क्राइम थ्रिलर मिर्ज़ापुर 2 (Mirzapur 2)  22 अक्टूबर को ही दर्शकों के लिए रिलीज़ हो चुका हैं। पंकज त्रिपाठी, दिव्येन्दु दुबे, रसिका दुग्गल, श्वेता त्रिपाठी और अली फजल की वेब सीरीज मिर्ज़ापुर 2 को ऑडियंस ने रातों रात जबरदस्त रिस्पांस दिया है। सीरीज के आते ही सोशल मीडिया पर बवाल मच गया है। मिर्ज़ापुर सीजन 2 की चर्चा पिछले काफी समय से हो रही थी।  लेकिन मेकर्स ने एक दिन पहले ही इसे स्ट्रीम कर फैन्स को बड़ा सरप्राइज दे दिया। मोस्ट अवेटिंग बेव सीरीज के कुछ शानदार डायलॉग्स ने धूम मचा दी है। चलिए आपको बताते हैं 'मिर्जापुर 2' के 10 बेस्ट डायलॉग्स (10 Dailouges) में कौन से शामिल हैं -

- शादीशुदा मर्द को अपनी स्त्री से भय न हो तो इसका मतलब है कि शादी में कुछ गड़बड़ है। 

- औरत चाहे चंबल की हो या पूर्वांचल की, जब गन उठाई है तो इसका मतलब है कि दिक्कत में है। 

- शर्मा से क्या शर्माना, दिस इज ए कॉमन डिजीज। 

- बातें ज्यादा हुई नहीं, बस आहट लेकर आ गए। 

- कुछ लोग बाहुबली पैदा होते हैं और कुछ को बनाना पड़ता है, इनको बाहुबली बनाएंगे। 

- दिखाते समय कॉन्फिडेंस हो तो पब्लिक पूछती नहीं कि फाइल में क्या है। 

- जब कुर्बानी देने का टाइम आए तो सिपाही की दी जाती है. राजा और राजकुमार जिंदा रहते हैं , गद्दी पर बैठने के लिए। 

- हमारा उद्देश्य एक है... जान से मारेंगे... क्योंकि मारेंगे तभी जी पाएंगे। 

- नेता जी बनना है तो गुंडे पालों, गुंडे मत बनो। 

- गद्दी पर चाहे हम बैठें या मुन्ना नियम सेम होगा। 

बता दें कि दूसरे सीजन ने कुल 10 एपिसोड हैं। 'मिर्जापुर 2' का निर्देशन मिहिर देसाई और गुरमीत सिंह ने किया है। पंकज त्रिपाठी, अली फज़ल, विक्रांत मैसी, श्रिया पिलगांवकर, श्वेता त्रिपाठी, रसिका दुग्गल और कुलभूषण खरबंदा मुख्य भूमिका में हैं। दूसरे सीजन में जहां बदला लेना का एक नया कॉसेप्ट है  वहीं इसका मजेदार अंदाज़ दर्शकों को खूब लुभा रहा है।

Related Story