जानिए क्यों धर्मेश ने कहा, 'खतरों के खिलाड़ी में डर का सामना करना

By Arunima March 16, 2020, 5:49 p.m. 1k

डायरेक्टर रोहित शेट्टी अपने पॉपुलर रियलिटी शो खतरों के ख‍िलाड़ी सीजन 10 (Khatron Ke Khiladi 10)  के साथ एक बार फिर दर्शकों को रोमांच का डोज देने के ल‍िए वापस आ गए हैं। शो में सभी कंटेस्टेंट एक दूसरे को कांटे की टक्कर भी दे रहे हैं और अपने डर पर जीत दर्ज करने की कोशिश भी।

 खतरों के खिलाड़ी का हर सीजन सुपरहिट साबित हुआ है। 'खतरों के खिलाड़ी' के 10वें सीजन में सबसे बढ़िया प्रदर्शन करने वालों में धर्मेश का नाम काफी ऊपर है लेकिन 'खतरों के खिलाड़ी' में रोज डर का सामना करना धर्मेश को रोज आत्महत्या करने जैसा लगता है।

 एक इंटरव्यू के दौरान धर्मेश ने बताया कि, 'आप जितनी भी तैयारी करके जाओ, लेकिन वहां सब धरी रह जाती है। धमाके के बीच में खड़े रहना, बिना दरवाजे के हेलीकाप्टर से नीचे फेंकना। सुरक्षा सब है लेकिन टास्क करने के लिए दिल तो गवाही नहीं देता न।

 हर रोज चुनौतीपूर्ण टास्क होते हैं। ऐसा लगता है जैसे रोज सुबह उठकर आत्महत्या करने जा रहे हैं लेकिन उसका एक अलग ही मजा है।' शो में तैयारियों को धता बताने वाली व्यवस्था के बारे में धर्मेश कहते हैं, ‘इस शो में कोई भी तैयारी काम नहीं आती। 

जहां स्टंट करना होता है वहां काले शीशे वाली गाड़ी में लेकर जाते हैं और जाकर सीधा डर के सामने छोड़ देते हैं। कोई सोचने और समझने का वक्त नहीं मिलता, बस सीधे जाकर भिड़ना होता है।" 

अपने सबसे बड़े डर के बारे में बताते हुए धर्मेश कहते हैं, ‘शो में मेरा अमृता के साथ एक स्टंट था जिसमें एक हेलीकॉप्टर पर एक सोफा लटकाया गया था। मुझे नीचे से उस सोफे पर चढ़ना था और उस पर लगे सभी झंडों को इकट्ठा करना था। झंडे इकट्ठे करने के बाद मुझे बिना सुरक्षा के पानी में कूदना था। यह टास्क मेरे लिए बहुत मुश्किल था।’

ये भी देखिए :- KHATRON KE KHILADI 10:- खतरों के खिलाड़ी में जब शरीर पर गिरा गर्म मोम, दर्द से चीखने लगीं अमृता

Related Story