अब 'श्रीकृष्णा' सीरियल देख सकेंगे दर्शक, दूरदर्शन पर जल्द आएगा सीरियल

By Neetu April 25, 2020, 12:55 p.m. 1k

 रूपाली जायसवाल - लॉकडाउन (Lockdown) के दिनों में पुराने सीरियल्स फिर से दिखाए जा रहे हैं।  डीडी (DD) पर ऑन  एयर  हुए मैथालॉजिकल शो 'रामायण' और 'महाभारत' ने टीआरपी (TRP) के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। वहीं कई मशहूर सीरियल भी दिखाए जा रहे हैं। 

लोगों की रूचि और बढ़ती मांग को देखते हुए 90 के दशक के एक और हिट मैथालॉजिकल शो रामानंद सागर (Ramanand Sagar) के 'श्रीकृष्णा' को भी लॉकडाउन के दौरान फिर से दिखाने का प्लान किया गया है। प्रसार भारती ने ट्वीट कर फैंस को ये गुडन्यूज(Good News) दी है।'

श्री कृष्णा' का टीजर  शेयर कर कैप्शन में लिखा- "जल्द आ रहा है श्री कृष्णा डीडी नेशनल पर।" 80 के दशक से रामानंद के 'रामायण' और बीआर चोपड़ा की 'महाभारत' डीडी नेशनल(DD National) पर पहले से ही ऑन एयर है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, श्रीकृष्णा उत्तर रामायण खत्म होने के बाद डीडी नेशनल पर ऑन एयर होगा।

आपको बता दें कि 'रामायण' के साथ ही 'श्री कृष्‍णा' का डायरेक्शन(Direction) भी रामानंद सागर ने ही किया था। रामानंद आर्ट्स के प्रोडक्‍शन में बना ये सीरियल सबसे पहले 1993 में दूरदर्शन के मेट्रो चैनल पर ऑन एयर हुआ था और बाद में 1996 में दूरदर्शन पर ऑन एयर हुआ था।

श्रीकृष्णा में तीन कलाकार भगवान कृष्‍ण के रूप में नजर आए थे। बाल कृष्‍ण का किरदार अशोक कुमार ने निभाया था, वहीं जवान कृष्‍ण का किरदार स्‍वप्‍निल जोशी ने न‍िभाया था। शो में भगवान श्री कृष्ण का मुख्य किरदार सर्वदमन डी. बनर्जी ने न‍िभाया था। सर्वदमन बनर्जी को इस शो से काफी ज्यादा पॉपुलैरिटी मिली थी।लोग घरों में सर्वदमन बनर्जी को भगवान समझकर उनकी पूजा करते थे।

ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (BARC) में बताया है कि 'रामायण' और 'महाभारत' जैसे मैथालॉजिकल शो ने टेलीविजन ऑडियंस (Audience) और एडवर्टिजमेंट(Advertisement) राजस्व को बढ़ाने में मदद की है। कुल मिलाकर, काउंसिल ने प्री-कोरोना वायरस पीरियड(Period) में टीवी देखने में 40% की वृद्धि दर्ज की, जिसमें 11-17 अप्रैल की अवधि के लिए 1.24 ट्रिलियन मिनट की टीवी सामग्री का उपयोग किया गया। ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (BARC) ने कहा कि भारत के लगभग आधे लोग 32% की तुलना में रोजाना टीवी देखते हैं।

टीवी ऑडियंस की संख्या लगातार बढ़ रही है क्योंकि देश में 25 मार्च से लॉकडाउन लागू किया गया है। कब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (BARC) ने कहा, "पौराणिक शो हिंदी सामान्य मनोरंजन चैनलों (GEC) के बीच मनोरंजन का मुख्य स्रोत बन गए हैं," इस तरह के शो कुल हिंदी GEC शैली का 43% योगदान देते हैं, जो कि टीवी चैनलों की सबसे बड़ी श्रेणी में आता है।

Related Story