विज्ञापन
विज्ञापन

Sooryavanshi Review: आते ही छा गई अक्षय कुमार की फिल्म, इमोशन, एक्शन और एंटरटेनमेंट से भरपूर है

E24

पूरे डेढ़ साल के इंतज़ार के बाद सूर्यवंशी दिवाली के ऐन बाद थियटरों में रिलीज़ हो गई है। और क्या पिक्चर है बॉस !मतलब रोहित शेट्टी ने सूर्यवंशी के थियेटर रिलीज़ के लिए जो इंतज़ार किया, उसका फल इतना मीठा है कि पूछिए नहीं... बस 2 घंटे 25 मिनट की ये फिल्म आपको ऐसा थियेटर एक्सपीरियंस देगी कि आप अपनी सीट से बंधे रहेंगे। 

इस फिल्म को थियेटर में देखने का अपना ही अलग मज़ा है। वो इसलिए क्योंकि पहली बार बॉलीवुड में हॉलीवुड के एवेंजर्स जैसा कारनामा हुआ है। और पूरी दुनिया में पहली बार तीन सुपरकॉप फिल्मों के कैरेक्टर एक साथ आकर कॉप वर्ल्ड बना रहे हैं। रोहित शेट्टी ने सिंघम, सिम्बा और सूर्यवंशी को ऐसे तार में पिरोया है कि इसका फ्लेवर पूरा एवेंजर्स वाला ही है। सूर्यवंशी में एटीट्यूड है,स्टाइल है, रोहित शेट्टी का स्पेशल एक्शन है और बॉलीवुड के सबसे बड़े स्टार हैं। दिवाली पर ये सबसे बड़ा धमाका है। 

कहानी पर आते हैं, तो बिल्कुल सिम्बा की तरह सूर्यवंशी की कहानी की शुरुआत भी अजय देवगन यानि सिंघम के नरेशन से होती है। जो 1993 और 2008 में मुंबई में हुए टेरेरिस्ट अटैक से जोड़ते हुए कहानी सुनाते हैं कि कैसे इस बिलाल ने 1993 के बम धमाकों में 1 हज़ार किलो आरडीएक्स लेकर आता है और 400 किलो आरडीएक्स का इस्तेमाल करके मुंबई में बम धमाके करता है। बिलाल ने 600 किलो आरडीएक्स अभी भी कहीं छिपा कर रखा है और अब इसी आरडीएक्स के साथ देश की इकॉनॉमिक राजधानी मुंबई पर सबसे बड़े टेरेरिस्ट अटैक का प्लान बुना जा रहा है। 

और पढ़िए – Sooryavanshi Box Office: सूर्यवंशी ने अब तक किया 175 करोड़ का कलेक्शन, जानिए 11 दिन की कमाई

लश्कर अपने स्लीपर सेल को एक्टीवेट करके 600 किलो आरडीएक्स के साथ मुंबई को दहलाने की साजिश रच चुका है। ATS चीफ़ इस मिशन पर डीसीपी सूर्यवंशी को असाइन करते हैं... और लश्कर के इंडियन कमांडर को पकड़ने का टास्क देते हैं...। बस एक्शन की शुरुआत हो जाती है। हेलीकॉप्टर्स हवा में उड़ते हैं, अक्षय कुमार उन पर लटक कर करतब दिखाने लगते हैं। गाड़ियां भी हवा में उड़ने लगती हैं। इस सारे एक्शन के बीच वीर सूर्यवंशी और उनकी रिया के बीच की कहानी बुनी जाती है। 

उनका मिलना, प्यार, शादी.... फिर फैमिली से ज़्यादा ड्यूटी को तरजीह देने के चलते बेटे आर्यन को लगी गोली के बाद, दोनो का बिछड़ना। इन सबके बीच वीर सूर्यवंशी की नाम भूलने की बीमारी, फिल्म में कॉमिक रिलीफ़ भी देती है। साथ ही पुलिस की ज़िंदगी का वो पहलू भी दिखाती है, जिससे हम वाकिफ़ नहीं हो पाते। सूर्यवंशी एक पहलू भी छुती है, जिसमें नफ़रत में जलते हुए आतंकवादी, मासूम लोगों की जान लेकर अपना बदला पूरा करने पर उतारू हैं। 

दूसरी ओर कुछ लोगो की हरकतों से पूरे कौम पर बदनामी का दाग़ जैसे सवाल भी ये फिल्म उठाती है। हिंदुस्तान के मुसलमान की देशभक्ति को देखकर आप गर्व से भर उठते हैं। फर्स्ट हॉफ़ में अक्षय और कैटरीना के बीच रोमांस के बीच खिचती फिल्म, सेकेंड हॉफ में बुलेट ट्रेन की रफ्तार पकड़ लेती है। सिम्बा उर्फ़ रनवीर सिंह की एंट्री के बाद फिल्म में एंटरटेनमेंट और एक्शन दोनो की ही नेक्स्ट लेवल हो जाता है और क्लाइमेक्स से ऐन 15 मिनट पहले जब स्क्रीन पर सिंघम देवगन की एंट्री होती है, तो आप सीटी और ताली बजाने पर मजबूर हो जाएंगे। 

तीनो स्टार्स की पॉवर से भी बेहतर हैं, इन तीनों के बीच की केमिस्ट्री। डायलॉग्स तो धाकड़ हैं ही। रोहित शेट्टी की कहानी प्रेडिक्टेबल है, लेकिन युनुस साजवाल का स्क्रीनप्ले इसमें जान डाल देता है। फिल्म की स्पीड गाने थोड़ा कम करते हैं, लेकिन अलग से इन गानों को सुनिए तो मेलोडियस हैं। मोहरा का सुपर डुपर हिट ट्रैक टिप-टिप बरसा पानी को सूर्यवंशी में अक्षय और कैटरीना के साथ री-क्रिएट किया गया है, कैटरीना खूबसूरत भी लगी हैं। 

लेकिन इस गाने में वो स्पार्क मिसिंग है, जो रवीना और अक्षय के बीच में था। परफॉरमेंस पर आएं, तो डीसीपी वीर सूर्यवंशी के अपने कैरेक्टर में अक्षय कुमार जानदार, शानदार और ज़बरदस्त हैं। एक्शन, रोमांस और इमोशन तीनों ही फ्रंट पर अक्षय ने नॉक आउट परफॉरमेस दी है। कैटरीना कैफ़ के एक्सप्रेशन्स शानदार हैं। इमोशन पार्ट उन्होने अच्छा किया है, लेकिन उनकी लव स्टोरी ही फर्स्ट हॉफ़ को स्लो करती है। रनवीर सिंह और अजय देवगन की एंट्री ही नहीं, एक्सटेंडेड कैमियो भी सीटी मार है। 

वैसे आपको बताते चले कि सिंहम देवगन ने अपने नेक्स्ट मिशन के साथ रोहित शेट्टी के साथ नई फिल्म का भी ऐलान कर दिया है। जैकी श्रॉफ और गुलशन ग्रोवर का कैरेक्टर छोटा है लेकिन दोनो ने उसे बखूबी निभाया है। जावेद जाफ़री एटीएस चीफ़ के कैरेक्टर में जमे हैं। कुमुद मिश्रा भी बिलाल के कैरेक्टर में बिल्कुल फिट हैं। अभिमन्यू सिंह और निकितन धीर ने एक्शन तो खूब किया, लेकिन दोनो विलेनियस कम लगे हैं। 

एक और सबसे बड़ी बात, इस फिल्म में रोहित शेट्टी ने छोड़ो कल की बातें गाने को रीक्रिएट करके इस्तेमाल किया है.. और जिस तरह से इस्तेमाल किया है, वो वीर सूर्यवंशी की सबसे बड़ा हाईलाइट है। जाइए, थियेटर में इस शानदार फिल्म का, बगैर ज़्यादा दिमाग़ लगाए मज़ा लीजिए। 

सूर्यवंशी को साढ़े तीन स्टार।

यहाँ पढिए - बॉलीवुड से जुडी ख़बरें

first published:Nov. 5, 2021, 2:18 p.m.

विज्ञापन

टीवी से लेकर हिंदी और क्षेत्रीय सिनेमा से जुड़ी मनोरंजन की सभी ताज़ा खबरों के लिए जुड़े रहें E24 से - फॉलो करें E24 को फेसबुक , इंस्टाग्राम , गूगल न्यूज़ .