सुशांत के माता-पिता का पहला बेटा डेढ़ साल की उम्र में गुजर गया है, बहुत मन्नतों के बाद दूसरा बेटा हुआ था

By Neetu July 27, 2020, 5:52 p.m. 1k

पूजा राजपूत- अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के देहांत के बाद उनके परिवार को खुद को संभाल पाना कितना मुश्किल हो रहा है, यह किसी से छिपा नहीं है। उनकी बहन बड़ी श्वेता सिंह कीर्ति अक्सर अपने गम को सोशल मीडिया पर साझा करती रहती हैं। एक बार फिर श्वेता ने अपने दुख को बांटने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया है। 

सोशल मीडिया पर सोमवार 27 जुलाई की सुबह से ही श्वेता का लिखा एक भावुक नोट वायरल हो रहा है, जिसमें उन्होने अपने जन्म से लेकर सुशांत के जन्म, अपने बचपन की सुनहरी यादों से लेकर अपनी बिदाई और फिर सुशांत से हुई आखिरी बातचीत का ज़िक्र किया है।

इसी पोस्ट में श्वेता ने खुलासा किया है कि सुशांत से पहले भी उनके माता-पिता केके सिंह और ऊषा सिंह को बेटे को खोने का गम मिल चुका है। अपनी पोस्ट में श्वेता ने लिखा है कि सुशांत के माता-पिता हमेशा से एक बेटे की चाहत रखते थे, क्योंकि वह अपनी पहली संतान जो कि एक बेटा था, उसे डेढ़ साल की उम्र में ही खो चुके थे। पहली औलाद को खोने के बाद सुशांत के मां ऊषा देवी को बेटे की चाहत थी। बेटे के लिए सुशांत के माता-पिता ने संकल्प(मन्नत) मांगी थी, वह मां भगवती की प्रार्थना, व्रत किया करते थे। इसी दौरान दिवाली के दिन श्वेता ने जन्म लिया। उनकी मां ऊषा देवी श्वेता को अक्सर लक्ष्मी कहकर पुकारती थीं।

तीन साल की मन्नत के बाद घर में सुशांत का जन्म हुआ था। सुशांत श्वेता से एक साल छोटे थे। यही वजह थी कि सुशांत को श्वेता का ‘पिठुआ’ कहा गया। हज़ारों मन्नत के बाद मिले बेटे के नाम सिंह दंपति ने गुलशन रखा था।

सुशांत के निधन के बाद अपने टेलीफोनिक इंटरव्यू में केके सिंह ने भी बताया था कि ‘सुशांत उन्हें तीन साल की मन्नत के बाद मिले थे’।

इसके साथ ही श्वेता ने अपने ब्लॉग के बारे में बताया है जिसे उन्होने नाम दिया है ‘भाई की कहानी बहन की ज़ुबानी’। अब सुशांत के फैंस को इंतज़ार है श्वेता के अगले ब्लॉग का। जिसमें वह अपने लाडले गुलशन के कुछ और अनसुने किस्से बयां करेंगी।

Related Story