सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले ने लिया राजनीतिक मोड़ , अब बसपा सुप्रीमो मायावती ने कही ये बड़ी बात !

By Neetu July 30, 2020, 4:01 p.m. 1k

नम्रता शर्मा -  सुशांत सिंह राजपूत(Sushant Singh Rajput) को गुजरे हुए लंबा वक्त हो गया है। मुंबई पुलिस इस मामले में अब तक 40 से ज्यादा लोगों से पूछताछ कर चुकी है लेकिन अभी तक सुशांत की मौत का कारण सामने नहीं आ पाया है। इसी बीच सुशांत के पिता की तरफ से रिया चक्रवर्ती(Rhea Chakraborty) के खिलाफ की गई शिकायत ने इस पूरे मामले को नया मोड़ दे दिया है। पटना पुलिस मुंबई पुलिस के साथ मिलकर जांच को आगे बढ़ा रही है। 

धीरे-धीरे सुशांत सिंह राजपूत मौत का मामला राजनैतिक होता जा रहा है। तमाम बड़े राजनेताओं ने सुशांत मामले को लेकर अपनी राय व्यक्त की है पूर्व केंद्रीय मंत्री सुब्रमण्यम स्वामी से लेकर बिहार के पूर्व सांसद पप्पू यादव, चिराग पासवान, रूपा गांगुली समेत तमाम पॉलीटिशियन इस मामले को गंभीरता से ले रहे हैं।

अब बसपा सुप्रीमो और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने भी सुशांत सिंह राजपूत मामले को सीबीआई को सौंपने की मांग की है। मायावती ने ट्विटर पर लिखा- बिहार मूल के युवा बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत का मामला रोज नए तथ्यों के उजागर होने व उनके पिता द्वारा पटना पुलिस में एफआईआर दर्ज कराने से लगातार गहराता जा रहा है। अब मामले की जांच महाराष्ट्र और बिहार पुलिस द्वारा होने से बेहतर है कि इस प्रकरण की जांच सीबीआई ही करे।

सुशांत सिंह राजपूत  मौत  मामले  पर अपनी बात रखते हुए मायावती(Mayawati) ने कांग्रेस पर भी निशाना साधा। मायावती ने अगले ट्वीट में लिखा - सुशांत सिंह राजपूत प्रकरण में महाराष्ट्र और बिहार के कांग्रेसी नेताओं के अलग-अलग रवैया से ऐसा लगता है कि इनका असल मकसद इस प्रकरण की आड़ में पहले अपने राजनीतिक स्वार्थ की पूर्ति करना है और पीड़ित परिवार को न्याय दिलाना बाद में, जो कतई उचित नहीं। महाराष्ट्र सरकार गंभीर हो।

आपको बता दें मायावती से पहले लोक जनशक्ति पार्टी के नेता चिराग पासवान(Chirag Paswan) भी इस मामले पर संज्ञान ले चुके हैं। चिराग पासवान ने बताया कि उन्होंने इस पूरे मामले में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से बात की और निष्पक्ष जांच की मांग की है और उद्धव ने उन्हें इस बात का भरोसा दिया है।

पूर्व केंद्रीय मंत्री सुब्रमण्यम स्वामी(Subramanian Swamy) तो इस मामले पर पहले दिन से बारीकी से नजर रखे हुए हैं। सुब्रमण्यम स्वामी ने इस मामले को देख देखने के लिए मुंबई के वकील इश्करण सिंह भंडारी को नियुक्त भी किया है। सुब्रमण्यम स्वामी ने ही प्रधानमंत्री मोदी को भी पत्र लिखकर इस पूरे मामले से अवगत कराया है। सुब्रमण्यम स्वामी ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से भी पूरे मामले पर बात की है।

बॉलीवुड अभिनेता शेखर सुमन(Shekhar Suman) ने कुछ दिनों पहले पटना पहुंचकर सुशांत के परिवार से मुलाकात की थी और उसी दौरान उन्होंने तेजस्वी यादव(Tejaswi Yadav) के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सुशांत मामले को सीबीआई को सौंपने की भी कवायद की थी जिसके बाद उन पर राजनीति करने के भी आरोप लगे थे।

बिहार से पूर्व सांसद पप्पू यादव(Pappu Yadav) ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को इस पूरे मामले से अवगत कराया है। इस बात की जानकारी पप्पू यादव ने ट्विटर पर दी थी। उन्होंने लिखा था अमित शाह जी आप चाहे तो 1 मिनट में ये मामला सीबीआई को सौंपा जा सकता है।

एक तरफ सुशांत सिंह राजपूत को इंसाफ दिलाने के लिए तमाम राजनेता गंभीरता से सोच विचार कर रहे हैं तो दूसरी तरफ बिहार में आने वाले चुनावों को ध्यान में रखते हुए भी आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला जारी है। ऐसा माना जा रहा है कि ये तमाम राजनेता एक तीर से दो निशाने कर रहे हैं। बहरहाल इन सब के बीच अब हर किसी को इंतजार है कि सुशांत सिंह राजपूत मामले को सीबीआई को सौंप दिया जाए बसपा सुप्रीमो मायावती ने भी यही गुहार लगाई है।

हालांकि महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख(Anil Deshmukh) ने इस मामले को सीबीआई को सौंप देने से साफ इंकार किया है। अनिल देशमुख का कहना है मुंबई पुलिस इस मामले में जो जांच कर रही है विह काफी है। सीबीआई को ये केस महाराष्ट्र सरकार नहीं सौंपेगी। ऐसे में देखना होगा तमाम दिग्गज राजनेताओं के संज्ञान लेने के बाद अब सुशांत का हाईप्रोफाइल मामले में कौन सा नया मोड़ आता है।

Related Story