Saina Review: साइना नेहवाल के चैंपियन बनने की दमदार कहानी, परिणीति के फिल्मी करियर का शानदार पड़ाव

By Neetu March 27, 2021, 3:05 a.m. 1k

फिल्म - साइना 

कलाकार - परिणीति चोपड़ा, मेघना मलिक, मानव कौल, निशा कौर 

डायरेक्टर - अमोल गुप्ते 

स्टार - 3 

नीतू कुमार - खिलाड़ियों की बायोपिक का बॉक्स ऑफिस पर अच्छा रिकॉर्ड रहा है । चाहे एम एस धोनी की कहानी हो या फिर मैरी कॉम की । भाग मिल्खा भाग हो या फिर दंगल । सिनेमा के मैदान में खिलाड़ियों की बायोपिक हमेशा विजेता रही है। दुनिया में बैंडमिंटन की नंबर वन खिलाड़ी रह चुकी साइना नेहवाल ( Saina Nehwal ) के संघर्ष की  कहानी भी फिल्मी पर्दे पर उतर गई है। हरियाणा की एक बच्ची कैसे दुनिया की नंबर वन खिलाड़ी बनी यहीं कहानी कहती है साइना ( Saina ) । साइना नेहवाल की कहानी यकीनन युवाओं को प्रेरणा देने वाली है। सपने को साकार करने में कितनी मेहनत लगती है ये साइना पर बनी ये फिल्म बखूबी कहती है।  साल 2015 में साइना ने सचमुच इतिहास रच दिया। वो  देश की पहली  महिला बैडमिंटन ख‍िलाड़ी बनीं जिसने दुनियाभर में नंबर-1 रैकिंग हासिल की । 

कहानी - साइना का जन्म हरियाणा के हिसार में रहने वाले एक मिडिल क्लास परिवार में होता है। साइना के माता-पिता उषा रानी नेहवाल ( मेघना मलिक ) और हरवीर सिंह नेहवाल ( शुभ्रज्योति भरत) दोनों बैडंमिंटन खिलाड़ी रह चुके हैं, उनका सपना है बेटी इंडिया के लिए बैंडमिंटन खेले। साइना के माता-पिता हैदराबाद शिफ्ट हो जाते हैं और फिर साइना के साथ-साथ माता-पिता का संघर्ष भी शुरू हो जाता है। नन्ही साइना ( निशा कौर ) के लिए बैंडमिंटन ही जिंदगी का लक्ष्य बन जाता है। माता-पिता की महत्वकांक्षा और अपने सपने को पूरा करने की जिद्द में वो बड़ी होती है और फिर बैडमिंटन कोर्ट में शेरनी की तरह दहाड़ती नजर आती हैं परिणीति चोपड़ा। फिल्म में साइना का खेल, उनका संघर्ष, उनकी लव स्टोरी, कोच पुलेला गोपीचंद की ट्रेनिंग और फिर विवाद तक को दिखाया गया है।  

हमारी राय - साइना एक इमोशनल स्पोर्ट्स ड्रामा है। नन्ही साइना से लेकर चैंपियन साइना तक की कहानी फिल्म में दिखाई गई है। अमोल गुप्ते ने साइना को कहानी को बहुत सधे हुए अंदाज में पेश किय़ा है।  उनकी जिंदगी के हर पहलू को छुआ है।  फिल्म कहीं भी पटरी से उतरती नहीं दिखती।  परिणीति चोपड़ा ने साइना के किरदार को बिल्कुल स्मैशिंग तरीके से जिया है। फुल फॉर्म में चल रही परिणीति ने धाकड़ एक्टिंग की है। उन्होंने साइना की बॉडी लैंग्वेज और गेम खेलने के तरीके को भी हुबहू उतार दिय़ा है। साइना का किरदार परिणीति के फिल्मी करियर का शानदार पड़ाव है। परिणीति ने इस फिल्म के लिए काफी शारीरिक श्रम किया है। महीनों बैंडमिंटन खेलना सीखा है और वो फिल्म देखते वक्त आप महसूस करते हैं।

 फिल्म साइना के बचपन का रोल निशा कौर ने किया है। उनका काम ऐसा है कि वो परिणीति चोपड़ा को टक्कर दे रही हैं। बच्ची के चेहरे पर भाव और बैडमिंटन खेलने का अंदाज एकदम नेचुअल दिखता है। वहीं मेघना मलिक साइना की मां के किरदार में दिल को छूती हैं।  फिल्म में वो जोर-शोर से अपनी मौजूदगी दर्ज करवाती हैं। साइना के कोच पुलेला गोपीचंद के रोल में मानव कौल ने कमाल का काम किया है। उन्होंने अपनी पूरी क्षमता दिखाई है। इसमें कोई शक नहीं कि साइना की गिनती खेल पर बनी बेहतरीन फिल्मों में होगी। हमारी तरफ से इस फिल्म को 3 स्टार ।

Related Story