Ludo Review : रोमांस, ड्रामा, कॉमेडी और थ्रिल का कॉकटेल है लूडो

By Neetu Nov. 13, 2020, 7:35 p.m. 1k

फिल्म- लूडो 

कलाकार - अभिषेक बच्चन, राज कुमार राव, आदित्य रॉय कपूर, फातिमा सना शेख, सान्या मल्होत्रा, पंकज त्रिपाठी 

डायरेक्टर- अनुराग बासु 

स्टार - 3 

नीतू कुमार - कोरोना वायरस की वजह से ओटीटी प्लेटफॉर्म्स पर धड़ाधड़ बड़े स्टार्स की फिल्में रिलीज हो रही हैं। वहीं दीवाली पर मनोरंजन का बम फूटा है। एक साथ कई फिल्में रिलीज हुई हैं। इसी दौरान अभिषेक बच्चन ( Abhishek Bachchan), राज कुमार राव ( Raj Kummar Rao ), आदित्य रॉय कपूर ( Aditya Roy Kapoor ) और पंकज त्रिपाठी ( Pankaj Tripathi ) की फिल्म लूडो ( Ludo Trailer) नेटफ्लिक्स पर स्ट्रीम हो गई है। लूडो ( Ludo ) एक डार्क कॉमेडी फिल्म है। फिल्म में रोमांस, ड्रामा, कॉमेडी, थ्रिल है । लूडो के जैसे चार खाने होते हैं वैसे ही फिल्म  में चार कहानियां  दिखाई गई हैं और आखिर में चारों कहानी की कड़ियां जुड़ती हैं।

कहानी -  लूडो के खेल में जिस तरह लाल, हरे, नीले और पीले रंग की गोटियां होती हैं, वैसे ही चार अलग-अलग रंगों की कहानी है ये फिल्म। सत्तू भईया ( पंकज त्रिपाठी ) वो किरदार है लूडो का होम है। हर कहानी इससे जुड़ती है। आकाश (आदित्‍य रॉय कपूर) और अहाना (सान्‍या मल्‍होत्रा) का एक अतीत है। आकाश से ब्रेकअप के बाद अहाना एक करोड़पति बिजनेस मैन के बेटे से शादी कर रही है। इसी बीच दोनों का सेक्स वीडियो इंटरनेट पर वायरल हो जाता है। वीडियो को कैसे डिलीट किया जाए इसी बहाने एक बार फिर दोनों साथ आते हैं। एक कहानी बटूकेश्वर तिवारी उर्फ बिट्टू की है। कभी वो सत्तू भईया का दाहिना हाथ हुआ करता था। आशा ( आशा नेगी ) नाम की लड़की से प्यार हो जाता है और फिर वो अपराध की दुनिया छोड़ देता है। इंसान अपराध भले ही छोड़ दे लेकिन अतीत उसका पीछा करता है। पुलिस बिट्टू को गिरफ्तार कर लेती है और बीवी और बेटी से दूर उसे 6 साल के लिए जेल जाना पड़ता है। इसी बीच बीवी को बिट्टू के ही एक दोस्त से प्यार हो जाता है। जेल से बाहर आने पर वो बेटी से मिलने के लिए तरस रहा है। तभी एक ऐसी बच्ची उसे मिलती है जो मां-बाप का प्यार पाने के लिए बिट्टू से कहती है कि वो उसे किडनैप कर ले। बिट्टू को पैसों की जरूरत होती है और वो बच्ची का अपहरण कर लेता है। तीसरी कहानी आलोक उर्फ आलू ( राज कुमार राव ) की है। आलोक अपने स्कूल की सहपाठी पिंकी ( फातिमा सना शेख) के प्यार में पागल है। पिंकी की शादी हो चुकी है। वो एक बच्चे की मां बन चुकी है लेकिन आलोक उस पर जान देने को तैयार रहता है। चौथी कहानी राहुल ( रोहित सरार्फ ) और शीजा ( पर्ली माने) की है। राहुल मॉल में सेल्स मैन है जबकि शीजा नर्स है। दोनों अपने वर्कप्‍लेस पर यातनाएं झेल रहे हैं। लेकिन सत्तू भईया का रूपया लूट कर इनकी जिंदगी बदल जाती है। चारों कहानियों का अंत क्या होता है ? ये जानने के लिए आप इस फिल्म को देखिए 

हमारी राय - जग्गा जासूस के फ्लॉप होने के करीब 3 साल बाद अनुराग बासु ने किसी फिल्म का निर्देशन किया है। लंबे समय वो एक डार्क कॉमेडी की योजना बना रहे थे और उसे बेहतर तरीके से दर्शकों के सामने परोसने में कामयाब रहे हैं । अनुराग बासु ने फिल्म की कहानी भी खुद लिखी है। लूडो में उनका कैमियो भी है। कहीं कहीं लुडो खूब हंसाती है तो कभी उबाऊ भी लगती है। चार कहानिय़ां एक साथ चलती है तो घालमेल भी खूब है । गैंगस्टर सत्तू भईया के रोल में पंकज त्रिपाठी छा गए हैं। उन्होंने लूडो में भी भौकाल मचा दिया है। अभिषेक बच्चन एक बार युवा फिल्म वाले अंदाज में दिखें हैं। बिट्टू तिवारी का रोल शानदार तरीके से निभाया है। राजकुमार राव ने लाजवाब काम किया है। एक ऐसे आशिक का किरदार निभाया है जो अपनी गर्लफ्रेंड के फेवरेट एक्टर मिथुन के रंग में रंग जाता है। दुख हो या सुख मिथुन की तरह नाचता है। पिंकी जैन के रोल में फातिमा सना शेख जंची हैं। आदित्य रॉय कपूर भी प्रभावित करते हैं। सान्या शर्मा को भी दिलचस्प भूमिका मिली है और उन्होंने किरदार के साथ पूरा न्याय किया है। फिल्म में प्रीतम का संगीत और बैक ग्राउंड स्कोर है और उन्होंने बेहतरीन काम किया है। अगर आप मल्टी स्टारर फिल्में पसंद करते हैं तो लूडो जरूर देखिए। हमारी तरफ से फिल्म को 3 स्टार  

Related Story