40 साल की हो गईं लगान गर्ल ग्रेसी सिंह, जानिए अब कहां हैं और क्या कर रही हैं ?

By Neetu July 19, 2020, 11:59 a.m. 1k

कहा  जाता है कि बॉलीवुड में पैर जमाने के लिए एक हिट फिल्म की जरूरत  है उसके बाद तो स्टारडम का रास्ता अपने आप खुल जाता है लेकिन ऐसा सबके साथ नहीं होता।  ब्लॉकबस्टर फिल्म में काम करने वाले सितारे भी कहीं खो जाते हैं।  ऐसा ही हुआ ग्रेसी सिंह ( Gracy Singh) के साथ । ग्रेसी सिंह ने बॉलीवुड में एंट्री तो धमाकेदार की लेकिन धीरे धीरे ग्रेसी सिंह का करियर बी-ग्रेड फिल्मों से पर आकर टीवी पर रूक गया । लगान, मुन्ना भाई एमबीबीएस और गंगाजल जैसी हिट फिल्मों में काम करने के बाद भी वो आज बॉलीवुड में गुमनाम हैं। कहा जाता है कि ग्रेसी भी नेपोटिज्म का शिकार हो गईं। 

 ग्रेसी सिंह का जन्म 20 जुलाई 1980 को दिल्ली में हुआ था। ग्रेसी के माता पिता चाहते थे कि वो डॉक्टर या इंजीनियर बनें लेकिन ग्रेसी ने पढ़ाई के बाद मॉडलिंग की दुनिया में कदम रख दिया इसी दौरान ग्रेसी सिंह को साल 1997 में टीवी सीरियल अमानत में काम करने का मौका मिला।

 इस सीरियल से ग्रेसी को काफी पहचान भी मिली। इसके बाद ग्रेसी कई फिल्मों में छोटी छोटी भूमिकाओं में नजर आईं। लेकिन ग्रेसी के करियर का सबसे बड़ा साल रहा 2001 जिसकी वजह से ही शायद आज ग्रेसी सिंह को लोग याद करते हैं। साल 2001 में ग्रेसी सिंह बॉलीवुड के सुपरस्टार आमिर खान के साथ फिल्म लगान में नजर आईं।

फिल्म के डायरेक्टर आशुतोष गोवारिकर को एक भोली भाली लड़की की तलाश थी और वो तलाश ग्रेसी सिंह पर आकर खत्म हो गई।फिल्म लगान सुपरहिट साबित हुई और इस फिल्म से ही ग्रेसी रातोंरात स्टार बन गईं। लगान ऑस्कर में विदेशी भाषा की फिल्म में भी नॉमिनेट हुई। इस फिल्म के बाद ग्रेसी साल 2003 में अजय देवगन के साथ फिल्म गंगाजल में नजर आईं औऱ ये फिल्म भी ग्रेसी सिंह के लिए सफलता लेकर आई।

 साल 2003 में ही एक और फिल्म से ग्रेसी सिंह ने सफलता का स्वाद चखा औऱ वो फिल्म थी मुन्ना भाई एमबीबीएस इस फिल्म में ग्रेसी संजय दत्त के अपोजिट नजर आईं। फिल्म सुपरहिट रही और फिल्म के नाम कई अवॉर्ड्स भी रहे। 

ग्रेसी सिंह में वो सब क्वालिटीज थीं, जो एक हीरोइन में होनी चाहिए। सुंदर, शालीन, टैलेंटेड और मेहनती लेकिन उनकी एक दो फिल्में फ्लॉप क्या हुईं काम मिलना बंद हो गया।  साल 2001 से 2008 के बीच करीना, रानी मुखर्जी, ऐश्वर्या राय और प्रीटि जिंटा टॉप पर थीं। इन सबके बीच ग्रेसी को किसी ने नहीं पूछा। जैसे ही उसकी एक फिल्म फ्लॉप हुई, उसके पास ऑफर आने लगभग बंद हो गए। 

फिल्में नहीं मिलने पर ग्रेसी ने बी ग्रेड की फिल्में करनी शुरू कर दी। 2008 में उन्होंने कमाल आर खान यानी केआरके की फिल्म 'द्रेशद्रोही' तक में काम किया। फिल्मों में गुंजाइश ना देखते हुए ग्रेसी सिंह ने बॉलीवुड से दूरी बना ली और टीवी की दुनिया में एंट्री की। जय संतोषी मां सीरियल में उन्होंने काम किया । 

ग्रेसी ने अपने एक इंटरव्यू में कहा था, ‘मैं मेहनत कर सकती हूं, चापलूसी नहीं। फिल्म इंडस्ट्री की खेमेबाजी मुझे समझ नहीं आती। रोल हासिल करने के लिए प्रोड्यूसर के पास जाना, पार्टी अटैंड करना मेरे बस की बात नहीं थी। मुझे पता ही नहीं चला कब मेरे पास काम आना बंद हो गया है।’ 

बचपन से ही ग्रेसी सिंह का रुझान अध्यात्म की तरफ था। बॉलीवुड में असफलता के बाद  उन्होंने ग्लैमर की इस दुनिया से दूरी बना ली है। अब वो ब्रह्माकुमारी से जुड़ गई हैं । ग्रेसी भरत नाट्यम डांसर भी रही हैं। ग्रेसी सिंह हर साल ब्रह्माकुमारी जाती हैं। वहां आयोजित होने वाले अध्यात्म कार्यक्रमों से जुड़ती हैं। कई बार वहां होने वाले समारोहों में भरत नाट्यम डांस करती हैं। 

ग्रेसी सिंह अध्यात्म से इस कदर जुड़ चुकी हैं कि शादी भी नहीं कर रही हैां ग्रेसी 40 साल की हो चुकी हैं। लेकिन अभी तक उन्होंने शादी के बारे  में कुछ नहीं सोचा । 

Related Story