करिश्मा तन्ना बनीं खतरों के खिलाड़ी सीजन 10 की विजेता, ट्रॉफी जीतकर हुईं इमोशनल

By Arunima July 27, 2020, 12:01 a.m. 1k

खतरों के खिलाड़ी के 10वें सीजन की विनर बनीं करिश्मा तन्ना। बता दें कि फिनाले में करिश्मा तन्ना ने करण पटेल, धर्मेश, बलराज को पीछे छोड़ ट्रॉफी अपने नाम की है। करिश्मा ने शो के सभी टास्क में बेहतरीन परफॉर्मेंस दी है। हर स्टंट को उन्होंने बखूबी पूरा किया है। करिश्मा शो की सबसे मजबूत खिलाड़ियों में से एक रही हैं। इसके अलावा उन्हें रोहित शेट्टी की बेस्ट स्टूडेंट भी कहा जाता था।

 शो की पूरी शूटिंग तो बुल्गारिया में हो गई थी लेकिन फिनाले मुंबई में शूट करना था। हालांकि कोरोना वायरस की वजह से फिनाले की शूटिंग भी देरी से हुई। हाल ही में एकता कपूर ने अपनी इंस्टा स्टोरी पर एक वीडियो शेयर किया था, जिसमें वह करिश्मा को बधाई देती नजर आई थी। इस वीडियो में बैकग्राउंड में करिश्मा तन्‍ना नाचती नजर आईं थी। सोशल मीडिया पर लगातार लोग करिश्‍मा तन्‍ना को बधाई दे रहे हैं। 

करिश्मा ने अपने अनुभव को शेयर करते हुए एक इंटरव्यू के दौरान उन्होंने बताया कि शो में स्टंट करते वक्त उनकी मां की दुआएं हमेशा आपके साथ रहीं। उन्होंने कहा, 'जब भी मैं कोई स्टंट करती थी तो मुझे पता था कि मेरी मां मेरे लिए मुंबई में बैठकर दुआ कर रही हैं। यह चीज हर स्टंट में मुझे बहुत हिम्मत देती थी।'

शो में आई चुनौतियों के बारे में करिश्मा ने बताया, 'शो मुश्किल तो नहीं था। हालांकि, शुरुआत में मुझे लगा था कि यह शो मैं कर नहीं पाऊंगी क्योंकि यह शो मेरे लिए नहीं है। लेकिन जब धीरे-धीरे मैं स्टंट करने लगी तो मुझे यह महसूस हुआ कि मैं खुद को भी इस शो के जरिए गलत साबित कर सकती हूं। मैंने सोचा कि अगर मैं ठंडे दिमाग से और शांत मन से काम करूंगी तो यह भली-भांति हो सकता है। और हुआ भी वही।'

आगे उन्होंने कहा, 'मुझे पुरुषों के खिलाड़ी होने से कोई परेशानी नहीं है क्योंकि भगवान ने पुरुषों को शारीरिक तौर पर मजबूत बनाया है लेकिन उन्होंने महिलाओं को भी भावनात्मक रूप से मजबूत बनाया है। लड़कियां मानसिक रूप से तो तैयार रहती ही हैं लेकिन अगर वह शारीरिक तौर पर भी तैयार रहें तो कुछ भी कर सकती हैं। मैंने अपनी मानसिक और भावनात्मक खूबी को यहां पर इस्तेमाल किया। मैंने सोच लिया था कि मैं यह शो जीतूं या ना जीतूं लेकिन टॉप 3 तक तो जाऊंगी और लड़कों को टक्कर दूंगी। फिर मेरी मां और भगवान का आशीर्वाद रहा जिससे कि मैं विजयी रही।'

उन्होंने बताया, 'टक्कर तो मेरी सभी प्रतियोगियों के साथ थी लेकिन करण (पटेल), धर्मेश (येलांदे) और तेजस्वी (प्रकाश) से मेरी सीधी टक्कर थी। तेजस्वी जब तक शो में थीं तो मुझे इस बात की खुशी थी कि कम से कम दो महिलाएं पुरुषों को टक्कर देने के लिए लगातार आगे बढ़ रही हैं। हम पुरुषों को महिला सशक्तिकरण का उदाहरण देना चाहते थे। वह काफी मजबूत भी थी।

 लगभग सभी प्रतियोगी ही अच्छे थे।' करिश्मा ने कहा, 'सेट पर हम स्वास्थ्य सुरक्षा संबंधी सभी सावधानियों का खास ध्यान रख रहे थे। इसलिए सब कुछ बहुत अच्छे से हो गया। जब मैं शूटिंग करके घर पर गई तो उसके लगभग तीन दिन बाद मैं अपनी मां के गले मिली। मुझे भी चिंता थी कि कहीं कोई परेशानी ना हो जाए।'

बता दें कि 'नागिन 3' फेम करिश्मा तन्ना ने एकता कपूर के मशहूर सीरियल 'क्योंकि सास भी कभी बहू थी' अपने करियर की शुरुआत की थी। उन्होंने रणबीर कपूर की फिल्म 'संजू' में भी एक छोटी भूमिका निभाई थी। 

Related Story