धर्मेन्द्र-राजेश खन्ना की वजह से खत्म हो गया था जॉय मुखर्जी का करियर !

By Neetu Feb. 24, 2020, 1:10 p.m. 1k

60 के दशक के रोमांटिक हीरो जॉय मुखर्जी ( Joy Mukherjee ) का 24 फरवरी को जन्मदिन होता है। जॉय मुखर्जी ने 1960 में आई फिल्म लव इन शिमला से बॉलीवुड में कदम रखा। इसके बाद शागिर्द, लव इन टोकियो ( Love in Tokyo ) , जिद्दी Ziddi, फिर वही दिल लाया हूं ( Phir Wahi Dil Laya Hoon) और एक मुसाफिर एक हसीना जैसी फिल्मों में काम कर मशहूर होते चले गए। जॉय मुखर्जी फिल्मों से जुड़े परिवार से थे। उनके पिता शशधर मुखर्जी की शादी अभिनेता अशोक कुमार की बहन सती देवी से हुई थी। शशधर मुखर्जी फिल्मालय स्टूडियोज के सह संस्थापक थे। 

जॉय मुखर्जी देब मुखर्जी और शोमू मुखर्जी के भाई थे। शोमू की शादी अभिनेत्री तनुजा से हुई थी। इनकी बेटियां काजोल और तनीषा मुखर्जी अभिनेत्रियां हैं। रानी मुखर्जी  के पिता राम मुखर्जी जॉय के चचेरे भाई थे।  फिल्म निर्देशक अयान मुखर्जी के चाचा लगते थे जॉय मुखर्जी। 

60 के दशक में उन्होंने कई हिट फिल्मों में काम किया । आशा पारेख के साथ उन्होंने जिद्दी, फिर वहीं दिल लाया हूं और लव इन टोकियो जैसी हिट फिल्मों में काम किया। साधना के साथ उनकी दूसकी फिल्म एक मुसाफिर एक हसीना जैसी फिल्म भी हिट रही। सायरा बानो के साथ उनकी फिल्म शागिर्द भी हिट रही थी। उस दौर की सभी एक्ट्रेसेस के साथ उन्होंने फिल्में की। 

 

उस दौर के वो पॉपुलर हीरो बन गए थे।  लेकिन बाद के दिनों में जितेंद्र और राजेश खन्ना जैसे अभिनेताओं के आने के बाद जॉय का कॅरियर धीमा पड़ने लगा और वह निर्देशन में चले गए। उन्होंने लव इन बांबे, छैला बाबू, सांझ की बेला और उम्मीद जैसी फिल्मों का निर्देशन किया लेकिन ये फिल्में कुछ खास चली नहीं।  बतौर हीरो उनकी आखिरी हिट फिल्म एक बार मुस्कुरा दो। इस फिल्म में उनके साथ तनुजा और उनके छोटे भाई देब मुखर्जी थे। फिल्म को शोमू मुखर्जी ने बनाया था। 

साल 2009 में उन्होंने दिल-ए-नादान सीरियल में काम किया। 9 मार्च 2012 को जॉय मुखर्जी का निधन फेफड़े की बीमारी की वजह से हो गया। जॉय मुखर्जी ने नीलम मुखर्जी से  शादी की थी। उनके तीन बच्चे हुए। दो बेटे और एक बेटी। जॉय मुखर्जी के बच्चों ने फिल्मों में काम नहीं किया।   

Related Story