पत्नी पर हाथ उठाने वाले पुरुष 'थप्पड़' देखकर शर्म जरूर महसूस करेंगे !

By Neetu Feb. 27, 2020, 4:36 p.m. 1k

फिल्म- थप्पड़ 

कलाकार - तापसी पन्नू, पवेल गुलाटी, कुमूद मिश्रा, तन्वी आजमी, राम कपूर, दीया मिर्जा 

डायरेक्टर - अनुभव सिन्हा

रेटिंग्स  - 4 स्टार  

नीतू कुमार - तापसी पन्नू  ( Taapsee Pannu )  बॉलीवुड में भीड़ से अलग खड़ी हैं। महिला प्रधान फिल्मों की वो पहचान बनती जा रही हैं। मुल्क, पिंक, नाम शबाना, सांड की आंख जैसी फिल्मों के साथ थप्पड़( Thappad) जैसी मजबूत और सशक्त फिल्म उनसे जुड़ चुकी है। थप्पड़ फिल्म बंद घरों के दरवाजों के पीछे महिलाओं के साथ होने वाली हिंसा पर करारा जवाब है। एक थप्पड़ ही तो है ... क्या सिर्फ एक थप्पड़ की वजह से कोई महिला अपनी घर तोड़ देती है। फिल्म के निर्देशक अनुभव सिन्हा ( Anubhav Sinha ) ने एक महिला के आत्म सम्मान पर बेहतरीन फिल्म बनाई है। एक डॉयलॉग आपको फिल्म का याद रह जाता है कि अगर महिलाएं एक थप्पड़ की वजह से तलाक लेने लगे तो शायद 50 फीसदी औरतों को मायके में रहना पड़ेगा। मतलब साफ है कि इस देश में घरेलू हिंसा की शिकार महिलाओं की तादाद कितनी ज्यादा है। कह नहीं सकते कि ये फिल्म घरेलू हिंसा को लेकर पुरुषों की सोच कितना बदल पाएगी लेकिन पत्नी पर हाथ उठाने वाले मर्द जब इस फिल्म को देखेंगे तो शर्म जरूर महसूस करेंगे। 

कहानी - अमृता ( तापसी पन्नू ) एक हाऊस वाइफ है। पति विक्रम ( पवेल गुलाटी ) और अपनी सास ( तन्वी आजमी ) की अच्छी तरह देखभाल करती है। परिवार को खुश रखना चाहती है। पति से उसका रिश्ता अच्छा है। विक्रम अपने ऑफिस में बहुत मशगूल रहता है। इसी दौरान एक पार्टी में ऑफिस के एक तनाव पर अमृता को थप्पड़ जड़ देता है। वो थप्पड़ अमृता की आत्मा को झकझोर देता है। वो पति से तलाक लेने का फैसला करती है। घर के लोग उसे समझाते हैं कि एक थप्पड़ के लिए अपनी शादी मत तोड़ो। मां, सास और दूसरे रिश्तेदार कोई भी इस फैसले पर साथ नहीं हैं। यहां तक कि वकील भी चौंक जाती है कि सिर्फ एक थप्पड़ की वजह से अमृता तलाक क्यों लेना चाहती है। फिल्म में तापसी की कहानी के साथ कई महिलाओं की कहानी चलती है। तापसी की कामवाली बाई अक्सर अपने पति से मार खाती है और इसे अपना नसीब समझती है। अमृता की मां ( रत्ना पाठक ) परिवार की खातिर अपने सपनों का गला घोंट देती है। सासखुद की पहचान ढूंढने के लिए पति से अलग बेटे के साथ रहती तो है, लेकिन जब बहू को अपना बेटा थप्पड़ लगा रहा है तो उसे भूल जाने को कहती है। तापसी की वकील नेत्रा जयसिंह एक कामयाब वकील होने के साथ साथ एक मशहूर न्यूज एंकर की पत्नी हैं और बेहद कामयाब वकील की बहू। अपने घर में वो किस तरह से घुटन महसूस ये दिखाया गया है। 

हमारी राय - थप्पड़ में तापसी पन्नू परफॉरमेंस का पावर हाऊस बनकर उभरी हैं। फिल्म में जब वो डॉयलॉग नहीं भी बोलती हैं तो उनकी आंखें बोलती नजर आती है। कह सकते है कि तापसी का अब तक सबसे मजबूत किरदार अमृता है। तापसी के साथ साथ फिल्म के बाकी कलाकारों का काम भी शानदार है। पवैल गुलाटी, कुमूद मिश्रा, रत्ना पाठक, गीतिका वैद्य और माया सराओ ने अपनी एक्टिंग से फिल्म को मजबूती दी है। फिल्म की कहानी और स्क्रीनप्ले जबरदस्त है। इस फिल्म को महिलाओं को जरूर देखना चाहिए लेकिन शादीशुदा महिलाएं इसे अपने पति के साथ देखें। 

Related Story