लॉकडाउन के बाद बदल जाएगा फिल्मों की शूटिंग का तरीका, नियम होंगे सख्त

By Arunima May 5, 2020, 6:07 p.m. 1k

पूजा राजपूत 

19 मार्च से मुंबई (Mumbai) में सभी फिल्मों (Films) की शुटिंग (Shooting) का चक्का जाम पड़ा है। कोरोना वायरस (Coronavirus) के बढ़ते संक्रमण (Infection) की वजह से फिल्मों और सीरियल्स की शुटिंग पर 31 मार्च तक के लिए रोक लगाई गई थी, जिसे अब अनिश्चित काल के लिए आगे बढ़ा दिया गया है। कोरोना वायरस ने पूरी फिल्म इंडस्ट्री के सभी समीकरण हिला कर रख दिए हैं। फिल्ममेकर्स करोड़ों का नुकासन झेल रहे हैं। 

सभी को इंतज़ार है हालातों के सामान्य होने का। हांलाकि 4 मई के बाद कुछ शर्तों के साथ केन्द्र सरकार ने ग्रीन ज़ोन और ऑरेंज जॉन में काम करने की सहमति दे दी है। जैसे-जैसे केन्द्र सरकार ने लॉकडाउन में ढ़ील देनी शुरु की है, सभी भारतीय सिने एसोसिएशंस (Cine bodies) आगे की योजना बनाने में जुट गए हैं। हालातों को देखते हुए शुटिंग के लिए एक नई अस्थाई गाइडलाइन पर विचार किया जा रहा है, ताकि जुलाई के महीने से शुटिंग का रुका हुआ काम एक बार फिर से शुरू किया जा सके। 

रिपोर्ट्स के मुताबिक प्रोड्यूसर्स गिल्ड ऑफ इंडिया (producers guild of india) ने सिने एंड टीवी आर्टिस्ट एसोसिएशन -सिनटा (CINTAA) और फेडरेशन ऑफ वेस्टर्न इंडिया सिने एम्प्लाइज़ (FWICE) के साथ सोमवार को एक वर्चुअल मीटिंग की थी। इस मीटिंग में फिल्मों की शूटिंग को कुछ नए और कड़े सुरक्षा निर्देशों के साथ जुलाई में शुरू करने के फैसले पर विचार किया गया। 

इस मीटिंग को लीड कर रहे फिल्ममेकर सिद्धार्थ रॉय कपूर ने सभी आर्टिस्ट और क्रू मेंबर्स की सुरक्षा के लिए सेफ्टी रूल्स बनाए हैं। सिद्धार्थ रॉय कपूर टीवी एंड फिल्म प्रोड्यूसर्स गिल्ड ऑफ इंडिया के प्रमुख हैं। नई गाइडलाइन में कहा गया है, कि सभी निर्माताओं और निर्देशकों को अपने सेट पर कुछ नए नियमों का सख्ती से पालन करना होगा। शुटिंग शुरू होने से पहले सेट पर पहुंचने वाले हर कलाकार और क्रू के सदस्य को अपनी सेहत का एक परीक्षण(Swab Test) करवाना होगा। इस दौरान उनके शरीर के तापमान की भी जांच की जाएगी। 

सभी एक्टर्स को अपनी स्टाइलिंग और मेकअप घर पर ही करना होगा। और शुटिंग के सेट पर सिर्फ स्टाफ मेंबर्स ही शामिल होंगें। इतना ही नहीं शुटिंग सेट पर डॉक्टर्स और नर्सों की टीम भी मौजूद रहेगी। इसके साथ ही फिल्ममेकर्स से अपील की गई है, कि वो 12 घंटे की शिफ्ट में अपने शुटिंग सेट पर प्रति दिन प्रति क्रू मेंबर को तीन मास्क प्रोवाइड करवाएंगें। रिपोर्ट ये भी है, कि कम से कम तीन महीनों के लिए, फिल्मों की शुटिंग के दौरान 60 साल की उम्र से ऊपर किसी भी क्रू मेंबर को काम पर नहीं रखा जाएगा।

फेडरेशन ऑफ वेस्टर्न इंडिया सिने एम्प्लाइज़ (FWICE) के प्रेज़िडेंट BN Tiwari ने बताया कि फिलहाल वो ये सोच कर चल रहे हैं, कि जुलाई के महीने में फिल्मों की रूकी हुई शुटिंगस को शुरू कर दिया जाएगा। BN Tiwari ने कहा – कि किसी की भी जान को खतरे में नहीं डाला जा सकता। गंगूबाई काठियावाड़ी और मैदान जैसी फिल्मों की शुटिंग रुकी पड़ी है। सभी आर्टिस्ट स्थिति की गंभीरता को समझते हैं।  इतना ही नहीं, मीटिंग में सेट पर काम करने वाले सभी लोगों के जीवन बीमा करने की बात पर भी विचार किया गया है।

Related Story