'सुपर 30' फिल्म के 1 साल पूरे, आनंद कुमार ने शेयर की पूरी फिल्‍म बनने की जर्नी

By Arunima July 12, 2020, 9:05 p.m. 1k

ऋतिक रोशन (Hrithik Roshan) की फिल्म सुपर 30 को आज यानी 12 जुलाई को रिलीज हुए एक साल हो गए हैं। फिल्‍म में ऋतिक रोशन ने गणितज्ञ आनंद कुमार का रोल प्‍ले किया। फिल्‍म को दर्शकों और क्रिटिक्‍स से अच्‍छा रिस्‍पॉन्‍स मिला था और इसने बॉक्‍स ऑफिस पर भी अच्‍छी-खासी कमाई की थी। फिल्म की रिलीज के एक साल पूरा होने पर आनंद कुमार ने कुछ यादें शेयर कीं।  

आनंद कुमार ने बताया, 'करीब 9 साल पहले जब मैं क्लास में बच्चों को पढ़ा रहा था, तभी मेरे पास एक कॉल आया। मुंबई से कोई संजीव दत्ता बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि वह स्क्रिप्ट राइटर हैं और मेरे जीवन पर एक फिल्म बनाना चाहते हैं। मुझे उनकी बातों पर यकीन नहीं हुआ। मैंने सोचा कि फोन पर कोई मजाक कर रहा है। फिर कई बार उनका फोन आया लेकिन मैंने उन्हें सीरियसली नहीं लिया।'

आनंद ने आगे बताया 'कुछ दिनों बाद उन्होंने अपना नाम संजीव सेन बताकर मेरे भाई को फोन किया। उन्होंने कहा कि वह रिपोर्टर हैं और एजुकेशन पर मुझसे बात करना चाहते हैं। मेरे भाई ने हामी भर दी। फिर कुछ वक्‍त बाद संजीव दत्ता और अनुराग बसु पटना स्थित मेरे घर आए। मैं अनुराग से अपरिचित था लेकिन गूगल पर उनके बारे में सर्च किया तो पता चला कि वह तो मशहूर फिल्‍ममेकर हैं। जब उन्होंने बायॉपिक के लिए गंभीर चर्चा की तो मुझे यकीन हुआ और कहानी लिखी जाने लगी।'

आनंद के मुताबिक, 'शुरुआत में सबकुछ बड़े जोर-शोर से हुआ लेकिन फिर काम ढीला पड़ने लगा और अनुराग बसु बर्फी और जग्गा जासूस जैसी फिल्में बनाने में बिजी हो गए। मेरी बायॉपिक ठंडे बस्ते में चली गई। बात आई गई हो गई और मैं भी सब कुछ भूल गया लेकिन संजीव दत्ता स्क्रिप्ट पर काम करते रहे। तीन साल पहले संजीव ने फिर से मुझे कॉल किया और बताया कि अब तो कई लोग आपकी बायॉपिक बनाना चाहते हैं। मुझे मुंबई बुलवाया गया। कई बड़े डायरेक्टर्स और एक्टर्स से मुलाकात हुई। काफी सोच-विचार के बाद फिल्म को आगे बढ़ाने की बात बन गई। एक वह भी समय था जब संजीव न जाने कितने लोगों के पास स्क्रिप्ट लेकर भटकते रहे और फिर वह भी दिन आ गया जब एकसाथ कई बड़े कलाकार फिल्म में मेरी भूमिका निभाने के लिए इच्छुक थे।'

आनंद ने आगे बताया, 'उस वक्त मुझे अपने पिताजी की बातें याद आती थीं। पिताजी अक्सर कहा करते थे कि बेटा तुम्हारी जिंदगी में जितने कष्ट आएंगे, जितनी मुश्किलें आएंगी, उतने तुम मजबूत होगे। बस बेटा कभी घबराना नहीं और फिर ऐसा ही हुआ। फिल्म की कोई खास पब्लिसिटी नहीं हुई। फिर भी माउथ पब्लिसिटी और अच्छी कहानी, अच्छे निर्देशन और ऋतिक रोशन की दमदार एक्टिंग के दम पर फिल्म ने अपार सफलता हासिल की। तमाम माता-पिता अपने बच्चों को फिल्म दिखाने ले गए। फिल्म को कईं राज्यों ने टैक्स फ्री कर दिया। मैंने कभी नहीं सोचा था कि सुपर 30 एक दिन पूरी दुनिया में चर्चा का विषय बनेगी और मेरे जीवन की कहानी रुपहले पर्दे दिखाई जाएगी। लगातार मेहनत के बाद जब सुपर 30 से पढ़कर सैकड़ों बच्चों ने देश-विदेश के बड़े संस्थानों में झंडा गाड़ दिया, तब मुझे लगा कि मेरे सपने पूरे हो रहे हैं।'

Related Story