कोरोना काल में लगातार देश की मदद करते रहें अमिताभ बच्चन, देश को आर्थिक दान देने के साथ-साथ हजारों मजदूरों के घर भेजा

By Arunima July 12, 2020, 12:27 a.m. 1k

महानायक अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) को मुबंई के नानावती अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वो कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इस बात की जानकारी उन्होंने ट्वीट के जरिए दी है। अमिताभ ने अपने ट्वीट में लिखा है कि उनके परिवार और स्टाफ का भी कोरोना वायरस का टेस्ट किया गया है, जिसकी रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है। बता दें कि कोरोना काल में अमिताभ बच्चन ने लोगों की खूब मदद की है। अमिताभ बच्चन ने प्रवासी मजदूरों के लिए फ्लाइट्स का इंतजाम करवाया था। उन्होंने वाराणसी के 500 मजदूरों को उनके घर तक पहुंचाने के लिए तीन फ्लाइट बुक करवाई थी। 

10 बसों का इंतजाम पहले ही कर चुके अमिताभ

अमिताभ बच्चन ने इससे पहले उत्तर प्रदेश के मजदूरों के लिए बसों का इंतजाम किया था। 29 मई को उन्होंने महीम दरगाह ट्रस्ट और हाजी अली दरगाह ट्रस्ट के साथ मिलकर 10 बसें हाजी अली से रवाना की थीं। इन बसों से यूपी के लखनऊ, इलाहाबाद, गोरखपुर और भदोई जैसे जिलों के लगभग 250 मजदूरों को उनके घर पहुंचाया गया था। बसों में मजदूरों के खाने-पीने से लेकर मेडिकल किट तक की सुविधा उपलब्ध कराई गई थी।

दो महीने से जारी था अमिताभ का राहत कार्य

अमिताभ बच्चन का ऑफिस पिछले दो महीने से लगातार राहत कार्य में जुटा है। अमिताभ बच्चन ने हर दिन 4500 से ज्यादा फूड पैकेट्स हाजी अली दरगाह, एंटॉप हिल, बाबुलनाथ मंदिर, महिम दरगाह, धारावी, सायन 90 फीट रोड, अरब गली, कोसला बंदर और वरली लोटस समेत मुंबई की अलग-अलग जगहों पर बटवाया है।  

अमिताभ बच्चन के ऑफिस ने एक हजार परिवारों के लिए 1000 राशन पैकेट्स भी उपलब्ध कराए हैं, जो हर परिवार के लिए एक महीने तक पर्याप्त होगा। यह सेवा सिर्फ गरीब और जरूरतमंद परिवार के लिए थी। इसके अलावा 9 मई को वो और उनकी टीम राशन के 2000 पैकेट्स, पानी की 2000 बोतलें और लगभग 1200 जोड़ी स्लीपर्स उन प्रवासी मजदूरों के लिए हर दिन उपलब्ध करा रहे थे, जो मुंबई से अपने घर जा रहे थे।

अमिताभ बच्चन के ऑफिस ने अलग-अलग एजेंसीज और लोकल अथॉर्टीज के साथ मिलकर अनगिनत मास्क, सैनेटाइजर्स भी बांटे हैं। उन्होंने अस्पतालों, पुलिस स्टेशन्स, बीएमसी के ऑफिस और अंतिम संस्कार की जगहों पर 20 हजार से ज्यादा पीपीई किट्स भी दान किए हैं।

Related Story