आर्थिक तंगी की वजह से एक्टर मनमीत ग्रेवाल ने आत्महत्या की, lockdown के कारण नहीं मिल रहा था काम !

By Arunima May 16, 2020, 8:11 p.m. 1k

टीवी में काम कर चुके एक्टर मनमीत ग्रेवाल ने लॉकडाउन की वजह से डिप्रेस होकर खुद की जान ले ली है। 32 साल के मनमीत ग्रेवाल पहले से ही कर्ज में डूबे हुए थे और इस लॉकडाउन ने उन्हें आर्थिक रूप से और ज्यादा तंग बना दिया था। परेशान होकर उन्होंने बीते शुक्रवार को देर रात अपने घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।

 मनमीत ग्रेवाल ने सब टीवी के शो 'आदत से मजबूर' और एंड टीवी के शो 'कुलदीपक' में काम किया था। वह नवी मुंबई के खारघर इलाके में एक छोटे से फ्लैट में अपनी पत्नी के साथ रहते थे। शुक्रवार की रात तकरीबन 10:30 बजे मनमीत ने अपने घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।

आर्थिक तंगी की वजह से मनमीत ग्रेवाल काफी डिप्रेशन में भी थे और रही सही कसर इस लॉकडाउन ने पूरी कर दी। जब उन्हें कोई भी छोटा-मोटा काम भी मिलना बंद हो गया तो यह परेशानी और तनाव और भी ज्यादा बढ़ गया। जिसके चलते उन्होंने अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली। उनकी हालत इतनी खराब थी कि वह अपने घर का किराया भी देने में असमर्थ थे और इसी बात के चलते वह डिप्रेशन के शिकार भी हुए थे।

मनमीत ग्रेवाल ने कुछ सीरियल्स में काम करने के अलावा कई ऐड फिल्मों में भी काम किया था और वो आठ एपिसोड वाले एक वेब सीरीज में भी काम कर रहे थे जिसमे वो तीन एपिसोड्स में भी नजर आनेवाले थे। इसके अलावा कई एक्टिंग स्कूल्स में एक फैक्लटी के तौर पर भी पढ़ाते थे। लेकिन लॉकडाउन के चलते सब कुछ बंद था और उनका डिप्रेशन लगातार बढ़ रहा था।

मनमीत ग्रेवाल के खास दोस्त और प्रोड्यूसर मनजीत सिंह राजपूत ने एक इंटरव्यू के दौरान बताया कि, 'मनमीत पिछले कई दिनों से आर्थिक तंगी से जूझ रहे थे। उन्होंने पर्सनल और प्रोफेशनल काम के लिए लाखों रुपये उधार के तौर पर भी ले रखे थे। लॉकडाउन के चलते काम बंद हो जाने से उन्हें न तो किसी तरह की कोई कमाई हो रही थी और न ही वे लोगों से उधार लिये गये पैसे चुका पा रहे थे। इसी से परेशान होकर उन्होंने यह अफसोसजनक कदम उठाया।"

आगे मनजीत सिंह राजपूत ने कहा कि- "फांसी लगाने के बाद उनकी पत्नी ने पति की झूलती लाश को नीचे से पकड़ रखा था और वो तमाम लोगों से उनके गर्दन में बंदे दुपट्टे को कैंची से काटने की गुहार लगाती रहीं, लेकिन कोरोना वायरस से संक्रमित होने के डर से किसी ने उनकी एक न सुनी। कुछ देर बाद एक डॉक्टर और पुलिस भी वहां पहुंची, लेकिन उन्होंने भी कोई मदद नहीं की। तकरीबन एक घंटे बाद बिल्डिंग के गार्ड ने मनमीत के गर्दन‌ से बंधा दुपट्टा काटा और तब जाकर उन्हें अस्पताल ले जाया गया, जहां पहुंचते ही उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। 

Related Story