किसने रची थी SUSHANT के खिलाफ ‘BLIND ITEM’ वाली साजिश ? पड़ताल में जुटी मुंबई पुलिस ?

By Neetu July 4, 2020, 2:16 p.m. 1k

दीपक दुबे- मुंबई पुलिस (Mumabi Police) ने अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत(Sushant Singh Rajput) के आत्महत्या केस(Suicide Case) के मामले में जांच की रफ्तार तेज़ कर दी है। गंभीरता से केस की जांच में जुटी पुलिस हर उस शख्स को तलब कर रही है,जिसके साथ सुशांत का प्रोफेशनल और पर्सनल कनेक्शन रहा था। जिससे की आत्महत्या की इस गुत्थी को सुलझाया जा सके। अब तक 30 लोगों के बयान मुम्बई पुलिस ने इस मामले में दर्ज कर लिये हैं। 

सुशांत की आत्महत्या मामले में कई बड़े नामों पर ‘नेपोटिज़्म’ और ‘खेमेबाज़ी’ के आरोप लगने के बाद मुंबई पुलिस उन आरोपों की सच्चाई को खंगालने के लिए हर मुमकिन कोशिश कर रही है। अब ताज़ा अपडेट यह है, कि इस मामले में मुंबई पुलिस ने 2 एंटरटेनमेंट वेब साइट्स के 3 जनर्लिस्ट को तलब कर उनका भी बयान दर्ज किया है। 

पुलिस यह जानना चाहती है, कि क्या इंडस्ट्री में या फिर सुशांत के करीबियों में से ऐसा कोई शख्स था,  जो मीडिया में सुशांत के खिलाफ ‘ब्लाइंड आइटम न्यूज़’(Blind Items) दे रहा था, जिनके ज़रिये अभिनेता की इमेज को धूमिल किया जा रहा था।

शायद यही वजह है कि अब सुशांत के दोस्तों, डायरेक्टर्स, एक्ट्रेसेस से पूछताछ के बाद पुलिस की निगाह फिल्मी दुनिया कवर करने वाले जर्नलिस्ट पर भी जा टिकी है। 

सुत्रों के मुताबिक, मुंबई पुलिस ने सुशांत सिंह राजपूत पर रिपोर्ट लिखने वाले एक वेबसाइट के पत्रकार से करीब 7 घण्टे तक पूछताछ कर उनका बयान दर्ज किया। इस वेब साईट के एडिटर को भी पुलिस ने तलब किया था। यह पूछताछ सुशांत की सुसाईड से पहले लिखी गई ‘BLIND ITEM’ न्यूज को लेकर की गई। 

दरअसल, नवंबर 2019 में एक ब्लाइंड आइटम आर्टिकल पब्लिश हुआ था जिसमें खबर दी गई थी कि "सुशांत सिंह अपनी दोस्त रिया चक्रवर्ती के साथ बांद्रा इलाके में स्थित हिल रॉड के एक अपार्टमेंट में रहते थे, बिल्डिंग के सेक्रेटरी से झगड़े के बाद उन्हें घर से निकाल दिया गया था”। बांद्रा पुलिस इस खबर के सोर्स को जानना चाहती है, कि कहीं सुशांत सिंह राजपूत की इमेज को खराब करने के लिए क्या किसी प्रोड्यूसर , डायरेक्टर, एक्टर, एक्ट्रेस या फिर किसी प्रोडक्शन हाउस ने, जान बूझकर PR मशीनरी का इस्तेमाल करके ऐसी खबरों को मीडिया में तो नहीं छपवाया था? 

पुलिस की जांच अब इस एंगेल पर आ टिकी है कि सुशांत के लेकर छपने वाली रिपोर्ट्स के पीछे कहीं कोई एजेंडा तो नहीं था। वेबसाइट के पत्रकार से तकरीबन 7 घण्टे की पूछताछ में पुलिस को पता चला है की ‘सुशांत सिंह एक बेहद सेंसिटिव इंसान थे, उनके खिलाफ या उनके बारे में ऐसी खबरें लिखीं जाती थी तो वह परेशान हो जाते थे। 

गौरतलब है कि "Blind News Items" वो होता है, जिसमें पत्रकार अपने आर्टिकल में सीधे तौर पर किसी शख़्स या एक्टर, एक्ट्रेस का नाम नहीं छापता लेकिन अपने शब्दों को ऐसे इशारों में लिखता है, कि उस आर्टिकल को पढ़ने वाला शख्स भांप जाता है, कि किसकी बात की जा रही है। पुलिस को जांच में पता चला है, कि इस तरह के कई ब्लाइंड न्यूज आइटम सुशांत को लेकर  छपे थे,  जिनसे सुशांत परेशान हुए थे।

 रिपोर्ट्स के मुताबिक सुशांत ने आत्महत्या से पहले गूगल पर अपना नाम सर्च किया था। और उनके लिए छपी खबरों को पढ़ा भी था। पुलिस को यह भी जानकारी मिली है, कि कुछ PR  ऐसे हैं जो न्यूज़ पेपर्स के रिपोर्टर्स या एंटरटेनमेंट डेस्क के हेड को या न्यूज़ वेबसाइट्स को ‘ब्लाइंड न्यूज़’ आइटम्स की टिप देते हैं।

Related Story