खुद पर लगे फर्जी मीटू के आरोपों से परेशान थे सुशांत सिंह राजपूत ? इसी वजह से डिप्रेशन में आ गए थे !

By Neetu July 2, 2020, 2:31 p.m. 1k

नम्रता शर्मा  -  सुशांत सिंह राजपूत(Sushant Singh Rajput) को इस दुनिया से अलविदा कहे दो हफ्तों से ज्यादा का वक्त हो गया है। मुंबई पुलिस पूरे मामले की गंभीरता से जांच कर रही है। पुलिस वो कारण पता लगाने की कोशिश कर रही है जिस वजह से सुशांत इतने अवसाद में थे कि अपनी जिंदगी खत्म करने से भी नहीं चूके। मंगलवार को सुशांत की आखिरी फिल्म दिल बेचारा की को-स्टार संजना संघी(Sanjana Sanghi) ने बांद्रा पुलिस स्टेशन में अपने बयान दर्ज कराए हैं। रिपोर्ट की माने तो संजना के बयान के आधार पर पुलिस को जांच में काफी मदद मिली है। माना जा रहा है सुशांत अपने बारे में छपी गलत खबरों को लेकर अवसाद में थे।

जी हां, अक्टूबर साल 2018 में बॉलीवुड में मीटू(Metoo) की हवा चली थी। आपको याद ही होगा कई नामी सितारों का चेहरा इस मूवमेंट(movement) ने बेनकाब किया था। कई ऐसे बड़े चेहरे थे जिनको पर्दे पर बेहद सम्मान और इज्जत भरी नजरों से देखा जाता था, लेकिन उनके कई रंग सामने आए थे। हालांकि फिर कुछ मामले फर्जी मीटू के भी सामने आए थे। इन सबके बीच अचानक खबर आई कि सुशांत सिंह राजपूत ने भी अपने फिल्म दिल बेचारा की को-स्टार संजना संघी के साथ कुछ गलत व्यवहार किया है। खबरें थी कि सुशांत ने संजना को गलत तरीके से छुआ था। इन खबरों का आधार कहां से शुरू हुआ ये तो किसी को नहीं पता लेकिन धीरे-धीरे ये खबर हर चैनल और वेबसाइट(website)पर ट्रेंड करने लगी थी।

हैरानी की बात तो ये थी कि सुशांत पर आरोप लगाने वाली संजना कभी इस मामले में आगे नहीं आई और ना ही उन्होंने कोई लिखित शिकायत दर्ज कराई। फिर सवाल ये कि आखिर इतना संगीन और गंभीर आरोप सुशांत पर किसके कहने पर लगाया गया? हाल ही में बांद्रा पुलिस स्टेशन में दर्ज कराए गए संजना संघी के बयानों के मुताबिक जिस वक्त सुशांत को लेकर ये खबरें मीडिया में आई वो भारत में थी ही नहीं, बल्कि वो अमेरिका(America) I में थी। संजना ने कहा कि उन्होंने कभी सुशांत को लेकर इस तरह के आरोप नहीं लगाए थे। सेट पर उनका सुशांत के साथ बहुत अच्छा कनेक्शन(Connection) था।

ऐसे में माना जा रहा है कि सुशांत अपने बारे में इन्हीं खबरों को लेकर काफी परेशान रहने लगे थे। इससे भी ज्यादा हैरानी की बात ये है कि बिना किसी सबूत के कई मैगजीन और वेबसाइट ने सुशांत पर लगे इन आरोपों को धड़ल्ले से छापा। कई ब्लाइंड आइटम्स(Blind Items) बनाए गए, जिनमें साफ तौर पर सुशांत का जिक्र किया गया। 

इस बात को कंगना रनौत ने भी अपनी एक वीडियो में उठाया था। सुशांत आत्महत्या मामले में कंगना ने हाल ही में एक वीडियो शेयर किया था जिसमें उन्होंने कहा था कि सुशांत को इस कदम उठाने के लिए उकसाया गया है। सुशांत के दिमाग में ये बात डाली गई कि वो किसी काम के नहीं हैं। सुशांत के बारे में गलत आर्टिकल(Article) छापे गए। कंगना ने अपनी इस वीडियो में कई लीडिंग टैबलॉयड के नाम भी लिए थे।

खबरें है सुशांत अपने बारे में इस तरह के आर्टिकल पढ़कर निराश होने लगे थे। सुशांत ने संजना के साथ हुई अपनी व्हाट्सएप(whatsapp) चैट को भी रिवील की थी और बताया था कि उनके और संजना के बीच दोस्ती का रिश्ता है, लेकिन किसी ने भी उस तरफ ध्यान नहीं दिया था। धीरे-धीरे सुशांत अवसाद में घिरने लगे। एक तरफ खुद के बारे में इस तरह की फर्जी खबर पढ़ना और दूसरी तरफ कई फिल्मों से बाहर होना, बॉलीवुड में नेपोटिज्म और फेवरेटिज्म(Favouritism)झेलना, इन सब कारणों की वजह से सुशांत अवसाद की जद में आते चले गए और किसी ने उनकी तरफ ध्यान नहीं दिया।

हाल ही में एक रिपोर्ट से ये भी खुलासा हुआ है कि सुशांत ने आत्महत्या से कुछ घंटे पहले ही गूगल पर खुद को सर्च किया था। इतना ही नहीं सुशांत ने खुद पर लिखे कुछ आर्टिकल्स को भी पढ़ा था। एक न्यूज़ पोर्टल की मानें तो सुशांत की मोबाइल की फॉरेंसिक जांच में ये बात सामने आई है कि उन्होंने अपने आत्महत्या वाले दिन यानी 14 जून को सुबह 10:15 बजे के आसपास गूगल पर अपना नाम Sushant Singh Rajput सर्च किया था। इस रिपोर्ट में ये भी बताया गया है कि सुशांत ने इस दौरान खुद से जुड़े कुछ आर्टिकल्स और न्यूज़ भी पढ़े थे।

संजना संघी के बयानों के आधार पर पुलिस ने अपनी जांच को आगे बढ़ा दिया है। बता दे सुशांत आत्महत्या मामले में पुलिस अब तक 27 से ज्यादा लोगों से पूछताछ कर चुकी है।

Related Story