सुशांत के परिवार की नाराजगी पर शेखर सुमन ने तोड़ी चुप्पी ! कहा - मैं आखिरी वक्त तक उसके लिए लड़ूंगा !

By Neetu July 2, 2020, 6:31 p.m. 1k

नम्रता शर्मा - सुशांत सिंह राजपूत(Sushant Singh Rajput) अब हमारे बीच नहीं हैं। सुशांत के जाने के बाद से ही लगातार इस मामले की जांच सीबीआई को सौंपने की कवायद तेज हो रही है। कई दिग्गज हस्तियों ने आगे आकर सीबीआई को ये केस सौंपने की मांग की है। इन्हीं में शेखर सुमन, रूपा गांगुली और कंगना रनौत जैसे कई सितारे शामिल हैं। सोशल मीडिया पर भी इस तरह की मांग जोर-शोर से उठ रही है। इसी बीच शेखर सुमन भी इस मामले में आगे आ रहे हैं। हाल ही में उन्होंने सुशांत के परिवार से मुलाकात की थी। इसके अलावा एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर तमाम खुलासे किए थे। 

खबरें आई कि सुशांत के परिवार वाले शेखर के इस व्यवहार से खुश नहीं हैं। वो नहीं चाहते कि सुशांत की मौत को पॉलिटिकल मुद्दा बनाए जाए। इन्हीं खबरों के बीच घिरे शेखर सुमन ने अपनी चुप्पी तोड़ी है। शेखर सुमन ने एक इंटरव्यू में इस बात का भरोसा दिलाया कि वो सुशांत को न्याय दिला कर ही रहेंगे।

शेखर सुमन ने कहा - मैं आखिरी बार सुशांत से करीब 10 साल पहले मिला था जब हम एक साथ झलक दिखला जा शो करते थे। वो बहुत प्यारा इंसान था और हमेशा सकारात्मक(Positive) बातें करता था। उसके बाद भी एक दो बार मुलाकात हुई लेकिन वो मुलाकात सिर्फ पल भर की ही रही। हाल ही में शेखर सुमन ने सुशांत के परिवार से भी मुलाकात की थी इसको लेकर शेखर सुमन ने बताया कि उनके परिवार से मिलकर कुछ खास बातचीत नहीं हो पाई लेकिन उनका दर्द बेशक सबके सामने था। मुझे लगा इस वक्त उनसे सुशांत आत्महत्या मामले की जांच को लेकर बात करना ठीक नहीं होगा। 

शेखर ने कहा - मैं जानता हूं मेरे वहां जाकर प्रेस कांफ्रेंस(Press Conference) करने पर भी काफी बातें हुई कि मैं राजनीति में उतर रहा हूं इसलिए ये सब कर रहा हूं तो ऐसे बोलने वालों को मैं बता दूं अगर मुझे राजनीति में उतरना ही होता तो मैं प्रत्यक्ष रुप से सबके सामने जाकर पार्टी में सम्मिलित होता। ये गलत खबर है मुझे राजनीति नहीं करनी और वो भी सुशांत को लेकर तो बिल्कुल भी नहीं।

शेखर सुमन(Shekhar Suman) ने कहा- मैं सुशांत को जरूर इंसाफ दिलाऊंगा ताकि आने वाले दिनों में इंडस्ट्री में कोई भी एक्टर परेशान होकर इस तरह का कदम बिल्कुल ना उठाएं।शेखर सुमन ने बॉलीवुड में अपनी किस्मत आजमाने वाले एक्टर को लेकर भी अपनी राय रखी। शेखर ने कहा - अगर यहां आप कुछ करना चाहते हैं तो दिमाग में बात को बैठा लेना कि इस तरह की परिस्थितियां आती रहेंगी। आपको इन सब बातों से लड़ना आना चाहिए। हार नहीं माननी चाहिए।

सुशांत सिंह राजपूत(Sushant Singh Rajput) के जाने के बाद बॉलीवुड इंडस्ट्री में पर भी तमाम तरह के आरोप लग रहे हैं। इसको लेकर शेखर सुमन ने कहा कि मैं बता दूं ये बाहर से चमकने वाली फिल्मी दुनिया अंदर से कोयले की खान है। कोई गंदी चीज को ऊपर से खूबसूरत दिखाने के लिए जो काम किया जाता है। वैसी ही है ये इंडस्ट्री। जिस तरह पान पर चमकीला पेपर लगाया जाता है पान को अच्छा दिखाने के लिए। 

शेखर ने कहा फिल्म इंडस्ट्री(Film Industry) को परिवार मानना बेहद गलत है। ये झूठ है, हर कोई खुशियों की बात तो ट्वीट करते हैं, सहयोग करते हैं सब दिखावा करते हैं लेकिन सुशांत को इंसाफ दिलाने के लिए किसी ने भी आवाज नहीं उठाई। क्या यही है इंडस्ट्री ? आपको बता दें शेखर सुमन ने सुशांत को न्याय दिलाने के लिए एक फोरम की शुरुआत की है। इसको लेकर शेखर ने कहा मैंने जस्टिस फॉर सुशांत सिंह राजपूत के लिए भी सोचा कि सभी का सहयोग मिले इस वजह से वहां के राजनीतिक(Political) लोगों से भी बात की। इस मुद्दे पर उनका ध्यान केंद्रित किया।

शेखर ने कहा नीतीश कुमार(Nitish Kumar) से मिलने का वक्त भी मांगा था लेकिन वो कोरोना  की वजह से नहीं मिल पाए। हालांकि मैं आपको बता दूं सभी का पूरा सहयोग है। हाल ही में शेखर सुमन के बेटे अध्ययन सुमन ने अपने पापा का समर्थन करते हुए कहा था कि पापा जानते हैं कि एक बेटे को खोने का दुख क्या होता है इसीलिए वो सुशांत के परिवार की मदद करना चाह रहे हैं और ये किसी राजनीतिक कारण की वजह से नहीं बल्कि इंसानियत की वजह से है। 

शेखर सुमन ने बेटे के इस बयान पर कहा कि मेरा बेटा अध्ययन भी काफी परेशान रह चुका था। कुछ दिनों पहले वो काफी डिप्रेस्ड(Depressed) था। आत्महत्या(Suicide) तक की सोची थी उन्होंने, जिसे लेकर हमने बात की उन्हें समझाया, उन्हें बताया कि सभी के साथ होता है। हर कोई इस परिस्थिति(Situation) से गुजरता है तो हमें इस वक्त खुद को मजबूत बनाए रखने की जरूरत है। मुझे ऐसा लगता है सुशांत के साथ सहयोग देने वाला नहीं था जो उन्हें इस तरह उनके विचारों पर सलाह मशवरा दे पाता इसीलिए मैं सुशांत के परिवार से जुड़ा हुआ हूं।

आपको बता दें शेखर सुमन पहले दिन से ही पूरे मामले पर नजर बनाए हुए हैं। शेखर ने कई खुलासे किए हैं जिसमें उन्होंने इस बात को भी बताया कि सुशांत ने एक महीने में 50 सिम कार्ड(Sim card) बदले थे। शेखर का कहना है कि वो सुशांत को इंसाफ दिला कर ही रहेंगे।

Related Story