अमिताभ बच्चन ने दी लोगों को बैसाखी की बधाई, देखिए तस्वीर

By Neetu April 13, 2020, 8:35 p.m. 1k

सारीका स्वरूप- देशभर में आज  बैसाखी (Baisakhi) का पर्व मनाया जा रहा है। अन्नदाता किसान इस दिन अपनी फसल काटने की शुरुआत करते हैं। लेकिन इस बार देशभर में कोरोना के संक्रमण को देखते हुए लॉकडाउन (Lockdown) लगाया गया है। जिसकी वजह से लोग सोशल मीडिया पर ही अपने- अपने भाई बंधुओं को बैसाखी की बधाई दे रहे हैं। बॉलीवुड कलाकारों ने भी इस खास मौके पर फैंस के लिए शुभकामनाएं भेजी हैं। 

 सबसे पहले बात करते है महानायक अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan)  कि जिन्होने  देशवासियों को बैसाखी पर्व की बधाई दी। उन्होंने अपनी फिल्म 'सुहाग' के एक गाने 'तेरी रब ने बना दी जोड़ी' की एक तस्वीर अपने सोशल मीडिया अकाउंट्स पर शेयर की। जिसमें वे परंपरागत पंजाबी ड्रेसिंग में वहां का लोकनृत्य भांगड़ा करते नजर आ रहे हैं।

फोटो शेयर करते हुए अमिताभ ने लिखा, 'बैसाखी के पावन अवसर पर, लें बारम बार बधाई। हर दिन मंगलमय हो, हम सब की यही दुहाई। हर्षित पल औ मधुमय जीवन, अपने घर मे मनाएँ। सुख ,शांति के साथ सभी सुरक्षित रहें सदा, ईश्वर से यही दुआ है ।' इसके साथ ही उन्होंने 'हैपी बैसाखी... ब्रूआआआआ.....' भी लिखा।

अमिताभ ने अपनी जिस फिल्म 'सुहाग' का फोटो शेयर किया। वो साल 1979 में रिलीज हुई थी और इसके डायरेक्टर मनमोहन देसाई थे। उसमें उनके अलावा शशि कपूर, रेखा और परवीन बॉबी के अलावा निरुपा रॉय, अमजद खान, कादर खान, रणजीत और जीवन ने प्रमुख भूमिकाएं निभाई थीं। फिल्म में लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल का संगीत था।

इसके साथ ही बॉलीवुड के सिंघम ने भी अपने ट्विटर के जरिए लोगो को बैसाखी की  बधाई दी । अजय देवगन ने लिखा- बैसाखी दी बधाईयां सबको। घर पर रहें, परिवार के साथ त्योहार मनाएं, दिल से सभी को प्यार। #HappyBaisakhi

ड्रीम गर्ल हेमा मालिनी ने भी  बैसाखी की बधाई देते हुए लिखा- आज तमिल नववर्ष है और बैसाखी भी। आइए हम एक नए कोरोना मुक्त साल के लिए प्रार्थना करें। जहां सभी सामान्य स्थिति हो, बिना किसी डर के। इसके साथ ही कई सेलिब्रिटीज ने बैसाखी कि बधाई दी ।

नई फसल तैयार होने पर मनाई जाती है बैसाखी

आपको बता दे कि बैसाखी का त्योहार फसलों के पकने और कटने पर होने वाली खुशी के साथ मनाया जाता है। इसे पंजाब में बहुत जोर-शोर से मनाया जाता है। वहां के लोग इस दिन परंपरागत नृत्य भांगड़ा और गिद्दा करते हैं और शाम को आग के आसपास इकट्ठे होकर लोग नई फसल की खुशियां मनाते हैं। 

 वहीं बाकी देश में किसान पकी हुई फसल का कुछ हिस्सा अग्नि देव को अर्पित करने के बाद, इसका कुछ भाग प्रसाद स्वरूप लोगों में बांट देते हैं।

Related Story