बेहतरीन लोकेशंस और सिनेमैटोग्राफी 'पल पल के पास' को बनाती है खास, पढ़िए रिव्यू

By Sept. 20, 2019, 5:26 p.m. 1k

फिल्म - पल पल दिल के पास

डायरेक्टर - सनी देओल 

कलाकार - करण देओल, सहर भांबा  

समीक्षा - नीतू कुमार

रेटिंग्स - 3 स्टार 

साल 1983 में सनी देओल  रोमांटिक फिल्म बेताब से हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में लॉन्च हुए थे और अब 2019 में उनके बेटे करण देओल बॉलीवुड में डेब्यू कर रहे हैं। बेताब कश्मीर की वादियों में शूट हुई थी और पल पल दिल के पास हिमाचल प्रदेश में शूट हुई है। अपने पिता की तरह करण देओल भी रोमांटिक हीरो के तौर पर लॉन्च हुए। पिछले दो सालों से सनी देओल अपने बेटे की फिल्म के लिए दिन रात एक किए हुए हैं। सनी देओल की बतौैर डायरेक्टर ये तीसरी फिल्म है। 

कहानी - पल पल दिल के पास की शुरूआत खूबसूरत पहाड़ों से होती है। करण सहगल ( करण देओल) एक ट्रैकिंग कैम्प चलाता है। ट्रैवेल ब्लॉगर सहर सेठी ( सहर भांबा ) उसके कैंप में आती है और एक एडवेंचर ट्रिप पर उसके साथ जाती है। ट्रिप के दौरान पहले तो दोनों में झगड़ा होता है और फिर काफी समय साथ बिताते हुए प्यार हो जाता है। एंडवेंचर टूर खत्म होने के बाद दोनों अलग भी हो जाते हैं, लेकिन इनके अंदर का प्यार दूरी बढ़ते ही परवान चढ़ जाता है। जब दोनों एक दूसरे से मिलते हैं तो अपने प्यार का इजहार करते हैं। इस लव स्टोरी में फिर परिवार की एंट्री होती है। 

हमारी राय - सनी देओल ने अपने बेटे को लॉन्च करने में काफी मेहनत की है। वो पर्दे पर साफ नजर आता है। फिल्म की जान हैं इसके खूबसूरत लोकेशन्स। सिनेमैटोग्राफी कमाल का है। आपको हिमालयन देखना बहुत पसंद आएगा। करण देओल कई बार अपने पिता की याद दिलाते हैं। उनकी एक्टिंग अच्छी है लेकिन डॉयलॉग डिलीवरी पर उन्हें काम करने की जरूरत है। सहर भांबा ने भी अच्छी एक्टिंग की है, साथ ही फिल्म में वो खूबसूरत दिखी हैं। पल पल दिल के पास एक सामान्य रोमाटिंक फिल्म है। म्यूजिक फिल्म का शानदार है। टाइटल सॉन्ग आपकी जुबान पर चढ़ जाता है। हमारी तरफ से फिल्म को 3 स्टार। 

 

Related Story