बॉलीवुड में बनी हाथी पर कई फिल्में, हिट रही इंसान और हाथी के दोस्ती कहानियां !

By Arunima June 4, 2020, 7:01 p.m. 1k

केरल में एक प्रेग्नेंट हथिनी को कुछ लोगों ने पटाखे से भरा अनानास खिला दिया था, जिसको खाने से उसकी मौत हो गई। नदी में खड़े-खड़े वो मर गई। तस्वीरें और स्टोरी सोशल मीडिया पर वायरल हुई तो बॉलीवुड सेलेब्स से लेकर कई बड़ी संस्थाओं ने आरोपियों को ढूंढकर उनको सजा देने की मांग की। हथिनी के दर्द को समझते हुए सोशल मीडिया पर खूब पोस्ट शेयर हुए। बॉलीवुड सितारों कार्टून के जरिए हथिनी के दर्द को शेयर करने की कोशिश की। इंसान और हाथी के बीच के रिश्ते को बॉलीवुड ने अपनी कई फिल्मों के जरिए बखूबी समझाया है। हाथियों पर बनी फिल्में हिट भी रही। राजेश खन्ना की एक फिल्म तो पूरी तरह से हाथी के नाम रही। 

जंगली

 साल 2019 में आई विद्युत जामवाल की फिल्म 'जंगली' में इंसान और हाथी के बीच उस रिश्ते को दिखाया गया जिसको शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता। इसमें विद्युत जामवाल एक पशुचिकित्सक बने हैं। जो अपने पिता के हाथी रिजर्व में वापस लौटता है, इस दौरान वो शिकारियों के रैकेट का सामना करता है और लड़कर अपने हाथियों को बचाता है। 

हाथी मेरे साथी

1971 में आई इस फिल्म में राजेश खन्ना और एक हाथी के बीच के प्यार को दिखाया गया है। इस फिल्म में तनुजा भी नजर आई थीं। इसमें हाथी मुसीबत में पड़े राजेश खन्ना की जान बचाता है जिसके बाद एक्टर को उससे खास लगाव हो जाता है और दोनों के बीच दोस्ती का रिश्ता बन जाता है। आगे चलकर उन्हें इस हाथी और अपने परिवार के बीच किसी एक को चुनने की नौबत आती है और कैसे ये एक्टर इन हालातों से मुकाबला करता है बाहर निकलता है इसमें दिखाया गया है। ये फिल्म और इसके गाने काफी हिट हुए थे।

हाथी मेरे हाथी 

पुलकित सम्राट की फिल्म हाथी मेरे हाथी इसी साल रिलीज होने वाली थी। 2 अप्रैल को फिल्म हिंदी, तमिल और तेलुगू भाषा में रिलीज होने वाली थी लेकिन लॉकडाऊन के कारण फिल्म रिलीज नहीं हो पाई। इस फिल्म में पुलकित के साथ राणा डग्गुबाती भी है। पुलकित और उनकी टीम के लोग इंतजार कर रहे हैं कि लॉक डाउन खत्न हो और उनकी फिल्म रिलीज हो। 

मैं और मेरा हाथी

साल 1981 में आई मिथुन चक्रवर्ती की फिल्म 'मैं और मेरा हाथी' में ये बताया कि इंसान और हाथी की दोस्ती हमेशा से खास रही है। बचपन में मिथुन जिनका नाम फिल्म में राम है, एक हाथी पालते हैं जिसे वो लक्ष्मण बुलाते हैं। दोनों के बीच भाईयों की तरह प्यार होता है। राम पढ़ाई करने बाहर चले जाता है। इस दौरान गुंडे राम के पिता की हत्या कर देते हैं। बाद में राम और लक्ष्मण दोनों पिता की मौत का बदला लेते हैं।  

सफेद हाथी

साल 1977 में बनी बच्चों की फिल्म सफेद हाथी में एक बार फिर हाथी और इंसान के बीच की दोस्ती को दिखाया गया। अनाथ बच्चा अपने चाचा-चाची के साथ रहता है जिसपर वो अत्याचार करते हैं। बच्चे की दोस्ती एक हाथी से हो जाती है, जो उसे सोने का सिक्का देता है। लेकिन जब ये बात उस इलाके के राजा को पता चलती तो वो लालच में उस हाथी को पकड़ने के लिए जाल बिछाता है। तपन दा द्वारा बनाई गई इस फिल्म ने एक बार फिर बता दिया था कि जानवर और इंसान के बीच एक अटूट रिश्ता है।

दोस्त

साल 1989 में हाथी और इंसान के रिश्ते पर आधारित मिथुन चक्रवर्ती की एक और फिल्म आई, जिसका नाम था 'दोस्त'। इसमें मिथुन ने एक वन अधिकारी का किरदार निभाया जो जंगल में होने वाले अवैध कटान को रोकता है। इस दौरान वो मगरमच्छ के जबड़े में फंसे एक हाथी को बचाता है। इसका एहसान हाथी मिथुन के परिवार को गुंडों से बचाकर उतारते हैं। 

Related Story