single-post

62 साल की हुईं कविता कृष्णमूर्ति, दो बच्चों के पिता के कारण छोड़ा अपना करियर

Jan. 24, 2020, 11:29 p.m.

गायिका कविता कृष्णमूर्ति पिछले चार दशकों से भी अधिक समय से अपनी बेहतरीन आवाज के जादू से दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर रही हैं। 62 वर्षीया गायिका ने अपनी मधुर आवाज से बॉलीवुड में भी कई लाजवाब गाने दिए हैं। 9 साल की उम्र से गानों में रुचि रखने वाली कविता ने बॉलीवुड को कई बेहतरीन हिट्स दिए हैं। 

उन्होंने श्रीदेवी (sridevi) से लेकर ऐश्वर्या राय बच्चन (aishwarya rai bachchan) तक को परदे के पीछे आवाज दी है। कविता ने बतौर प्लेबैक सिंगर पहली बार साल 1980 में सॉन्ग 'काहे को ब्याही' (मांग भरो सजना) गाया था। हालांकि बाद में इस गाने को फिल्म से हटा दिया गया था।

 इसके बाद साल 1985 में आई फिल्म 'प्यार झुकता नहीं' से उन्हें बॉलीवुड में एक अलग पहचान मिली जिसके बाद उन्होंने फिर कभी पीछे मुड़ कर नहीं देखा। वहीं आज उनके जन्मदिन के खास मौके पर हम आपको उनके प्यार की कहानी सुनाएंगे। 90 के दशक की मशहूर सिंगर कविता कृष्णामूर्ति की आवाज में ऐसा जादू था कि वो किसी भी तरह के गाने गा सकती थीं।

ऐसे में मार्केट में उनकी डिमांड खूब थी। ऐसे में इतनी बिजी लाइफ की वजह से वो खुद पर ध्यान नहीं दे पाती थीं। एक बार इंटरव्यू में उन्होंने बताया था कि उन्हें ऐसा लगता था कि वो अपनी सारी जिंदगी गाते-गाते ही गुजार देंगी। उन्होंने कभी शादी के बारे में सोचा भी नहीं। उन्होंने ये तक तय कर लिया था कि उन्हें शादी नहीं करनी है।'

लेकिन शायद ऊपर वाले को कुछ और ही मंजूर था। दरअसल, एक दिन कविता कृष्णमूर्ति के पास एक कॉल आया कि वायलिन प्लेयर डॉ. एल सुब्रमण्यम (L. Subramaniam) एक फिल्म कर रहे हैं जिसके लिए उनको कविता से एक गाना गवाना है। वहीं इसके लिए कविता ने हां कर दिया और फिर दोनों की पहली मुलकात गाने की रिकॉर्डिंग पह हुई।

इसी बीच दोनों की बातचीत हुई और कविता को सुब्रमनियम का व्यवहार काफी पंसद आया। इस गाने के कुछ दिन बाद कविता एक बार फिर सुब्रमनियम के साथ रिकॉर्डिंग के सिलसिले के में बेंगलुरु गईं और वहां उनके बच्चों से भी मिलीं।

 बता दें कि इस वक्त सुब्रमनियम की पत्नी गुजर चुकिं थी और उन्हें गुजरे हुए 4 साल हो गए थे। वहीं रिकॉर्डिंग के दौरान सुब्रमनियम और कविता की मुलाकात होती रही और दोनों एक दूसरे को पसंद करने लगे। फिर एक रोज दोनों ने शादी करने का फैसला किया।