सुशांत के सुसाइड से कटघरे में फिल्म इंडस्ट्री, विवेक ओबरॉय और रणवीर शौरी ने क्या कहा जानिए !

By Neetu June 16, 2020, 12:46 p.m. 1k

पूजा राजपूत – बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत का निधन हुए दो दिन बीत चुके हैं। रविवार को सुशांत ने अपने बांद्रा वाले फ्लैट में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली थी। सिर्फ 34 साल की उम्र में ही एक नौजवान और काबिल अभिनेता का यूं चले जाना सभी को खल रहा है। सुशांत के परिवारजन, उनके करोड़ों फैंस और पूरा बॉलीवुड दुख में डूबा हुआ है। हांलाकि सुशांत की मौत के बाद से ही बॉलीवुड में नेपोटिज्म को लेकर एक बार फिर बहस छिड़ गई है। प्रमुख प्रोड्क्शन हाउस द्वारा बॉलीवुड में चल रही गुटबाज़ी पर कई सितारे पहले ही सवाल खड़े कर चुके हैं। सिंकदर खेर, कंगना रणौत, कमाल राशिद खान, शेखर कपूर, निखिल द्विवेदी जैसे हस्तियां तीखे ब्यान जारी करके बॉलीवुड के लोगों पर निशाना साध चुके हैं। इन तमाम हस्तियों ने ऐसे खुलासे किये जिन्होने सभी को झकझोर दिया है.

और अब इसी कड़ी में अभिनेता विवेक ओबरॉय का नाम भी शामिल हो गया है। विवेक ओबरॉय सुशांत सिंह राजपूत के अंतिम संस्कार में शामिल होने वाले सेलेब्रेटिज़ में से एक थे। सुशांत के पंचतत्व में विलीन होने के बाद विवेक ने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट शेयर किया है, जिसमें उन्होने सुशांत के अंतिम संस्कार के दृश्य का उल्लेख करते हुए बॉलीवुड पर कड़े प्रहार किए हैं।

विवेक ने लिखा है “सुशांत के दाह-संस्कार में शामिल होना आज दिन दहला देने वाला था। मैं वास्तव में चाहता हूं, काश मैं उनके साथ अपना व्यक्तिगत अनुभव साझा कर पाता और उनका दर्द कम कर पाता था। मैं खुद अपने अपने दर्द भरे सफर से गुज़रा हूं, यह बेहद अंधकारमय और अकेला हो सकता है। लेकिन मौत इसका जवाब नहीं हो सकता, खुदकुशी इसका हल नहीं हैं। काश वह अपने परिवार, दोस्तों और फैंस के बारे में सोचकर रूक जाता जो इस नुकसान को आज महसूस कर रहे हैं। उसे अहसास होता कि लोग उसे कितना प्यार करते हैं। आज जब मैने उनके पिता को उनकी चिता को अग्नि देता देखा, उनकी आंखों में जो दर्द था, वह असहनीय था। जब मैने उनकी बहनों को रोते हुए सुना जो गिड़गिड़ाते हुए उन्हें लौट आने को कह रही थीं, मैं व्यक्त नहीं सकता यह कितना दुखद था।“इसके साथ ही विवेक ने आगे लिखा है कि “मुझे उम्मीद है कि हमारी इंडस्ट्री जो खुद को एक परिवार कहती है वह अब आत्मनिरीक्षण करेगी, हमें बेहतर के लिए बदलने की जरुरत हैं, अब हमें चुगलियां कम कम और देखभाल करने की अधिक आवश्यकता है। शक्ति प्रदर्शन कम करके, अधिक विनम्र और बड़े दिल का बनना होगा। बॉलीवुड को सच में एक परिवार बनने की जरुरत है। ज़ाहिर है विवेक ने भी बिना किसी का नाम लिये बॉलीवुड में चल रही गुटबाज़ी पर कड़ा प्रहार किया है।

अभिनेता रणवीर शौरी ने भी सुशांत के निधन के बाद कड़ा रुख अपनाते हुए हिन्दी फिल्म इंडस्ट्री मे चल रहे इस गंदे खेल पर प्रश्नचिन्ह लगाया है।

रणवीर ने ट्वीट कर कहा कि “बड़े लोगों की ताकत ही यह फैसला करती है कि यहां कौन स्टार बनेगा और कौन यहां से बाहर का रास्ता देखेगा। जब किसी कसीनो में जिस मेज पर सबसे बड़े लोग बैठकर दांव लगाते हैं और वहां कोई हारता है तो वहां कोई सवाल नहीं किया जा सकता। क्योंकि, उस समय बाकी सभी लोग अपना खेल खेलने में मस्त होते हैं। जबकि, हकीकत सभी जानते हैं कि यह खेल पहले से ही फिक्स है।“

रणवीर शौरी की ही तरह कोएना मित्रा ने भी उन लोगों के खिलाफ आवाज़ उठाई है, जिनकी वजह से सुशांत को टैलेंटिह होने के बावजूद आउटसाइडर की तरह ट्रीट किया जाता था।

 कोइना ने कहा कि “सुशांत बेहद अच्छे इंसान थे, अच्छा दिखने वाले अभिनेता और अच्छी फिल्मों के साथ वह सफल भी हुए थे। इसके बावजूद मैने आर्टिकल में पढ़ा कि उन्हें एक बाहरी व्यक्ति की तरह माना जाता था, उन्हें पार्टियों में नहीं आमंत्रित किया जाता था। बहुत सारे लोगों ने यह अनुभव किया है, वह पहले व्यक्ति नहीं थे। जब तक आपका परिवार फिल्म इंडस्ट्री से संबंधित नहीं होगा, तब यह फिल्म उद्योग आपको परिवार की तरह नहीं मानेगा”।

लोक गायिका मालिनी अवस्थी ने भी बॉलीवुड में चल रहे नेपोटिज्म की पोल खोली है। उन्होंने एक  अवॉर्ड सेरेमनी का पुराना वीडियो शेयर कर बॉलीवुड में चल रहे नेपोटिज्म का विरोध किया है। इस वीडियो में बॉलीवुड के दो बड़े सितारे नवोदित अभिनेता सुशांत का मजाक उड़ाते दिख रहे हैं।

ज़ाहिर एक के बाद एक कई सितारे बॉलीवुड के इस गंदे चेहरे को अब बेनकाब करने में लगे हैं।

Related Story