बेटे सुशांत के लिए पूजा करते वक्त बहुत दुखी और बेबस दिखे उनके पिता !

By Neetu June 25, 2020, 12:26 p.m. 1k

पूजा राजपूत -सुशांत सिंह राजपूत का जाना हर किसी को स्तब्ध कर गया था। बॉलीवुड एक काबिल सितारा खो चुका है। अपने सात साल के करियर में सुशांत जिस गुटबाज़ी और नेपोटिज्म के शिकार हुए, उसी गुटबाज़ी की वजह से बॉलीवुड अब बिखर रहा है। फिल्म इंडस्ट्री सवालों के घेरे में हैं। बॉलीवुड में ‘नेपोटिज़्म’ को लेकर बहस तेज़ हो गई है। लेकिन सोशल मीडिया पर हो रही हर चर्चा में सुशांत का ज़िक्र है। फैंस से लेकर सेलिब्रिटीज़ तक हर कोई सुशांत की आत्महत्या केस के लिए सीबीआई जांच की मांग कर रहा है। अपने चहेते स्टार को न्याय दिलाने के लिए उनके फैंस ने सोशल मीडिया पर मुहीम छेड़ी हुई है।

लेकिन इन सब चर्चाओं से वो शख्स गायब है, जिसका सुशांत के चले जाने के बाद सबसे बड़ा नुकसान हुआ है। और वो शख्स हैं, सुशांत के पिता के.के.सिंह। सोशल मीडिया पर सुशांत के पिता के.के. सिंह की एक तस्वीर वायरल हो रही है, जिसमें वह अपने बेटे की तस्वीर के करीब बैठे दिख रहे हैं।

 एक पिता के लिए इससे बड़ी सज़ा क्या होगी कि वह अपने इकलौते जवान बेटे को खो चुका है। और अब उसे अपनी पूरी जिंदगी सिर्फ इन तस्वीरों में ही अपने हंस्ते-मुस्कुराते बेटे को देखना होगा।

ये तस्वीर हाल ही में सुशांत के पटना स्थित घर पर हुई प्रार्थना-सभा की है। जिसमें उनके पिता कुर्सी पर बैठे हैं, और शून्य में निहार रहे हैं। उनकी आंखो में दर्द साफ दिख रहा है, जिसे शब्दों में ब्यान करना भी बेहद मुश्किल है। इस तस्वीर को देख हर कोई भावुक हुए जा रहा है। 

तस्वीर को देखकर ये अंदाज़ा लगा पाना बिल्कुल मुश्किल नहीं है, कि बेटे को खो देने के गम से उनके पिता किस कदर टूट गए हैं।

इससे पहले सुशांत के अंतिम संस्कार की भी कुछ तस्वीरें वायरल हुई थीं। अभिनेता विवेक ओबरॉय ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर बताया था कि कैसे बेटे कि अर्थी को कंधा देते वक्त उनके पिता लड़खड़ा गए थे। कांपते हाथों से उन्होने अपने जवान बेटे कि चिता को मुखाग्नि दी थी।

सुशांत की बहन श्वेता सिंह कीर्ति और बड़े जीजा ओ.पी.सिंह भी परिवार के लाडले बेटे को खोने का गम सोशल मीडिया पर ब्यान कर चुके हैं।

आपको बता दें कि 14 जून की सुशांत सिंह राजपूत ने आत्महत्या की थी। 15 जून की शाम मुंबई में उन्हें पंचतत्व में विलीन किया गया था। 18 जून को सुशांत के परिवार ने उनकी अस्थियों का विसर्जन पटना में गंगा नदी में किया था।

Related Story