गरीबों के मददगार ही नहीं बहुत अच्छे भाई भी हैं Sonu Sood, पढ़िए पूरी कहानी

By Neetu May 29, 2020, 2:45 p.m. 1k

बॉलीवुड  Bollywood  एक्टर सोनू सूद Sonu Sood आजकल इंडिया के हीरो बने हुए हैं। 12000 से ज्यादा मजदूरों को घर भेजने वाले सोनू को लाखों लोग दुआएं दे रहे हैं। एक गर्भवती मजदूर महिला को उन्होंने घर भेजा तो वो ऐसे प्रभावित हुई कि उसने अपने नवजात बच्चे का नाम सोनू सूद रख दिया। क्या नेता क्या अभिनेता हर कोई सोनू की सराहना कर रहा है। सोनू एक मददगार शख्स ही नहीं बल्कि बहुत अच्छे भाई भी हैं। 

कुछ दिन पहले  उन्होंने अपनी बहन को एक शानदार तोहफा दिया था। मुंबई Mumbai जैसे महंगे शहर में उन्होंने अपनी बहन को एक घर तोहफे में दिया। इस बात की जानकारी खुद सोनू ने सोशल मीडिया पर दी थी। इतना ही नहीं उन्होंने अपनी बहन की घर की तस्वीरें भी शेयर की थी। सोनू ने लिखा था कि इन दिनों काफी व्यस्त है एक तरफ शूटिंग कर रहे हैं तो दूसरी तरफ अपनी घर बहन के घर के डेकोरेशन में बिजी हैं। इस वजह से वह अपने परिवार के साथ भी कम वक्त बिता पा रहे थे। उनका कहना है कि  बहन को घर देना उनके लिए एक सपने जैसा था और अब वह सपना पूरा हो गया है।

सोनू ने अपनी बहन का घर बहुत ही खूबसूरती से डिजाइन करवाया । घर की फर्नीचर और पर्दे लाइट कलर के हैं और घर काफी स्पेशियस है। भाई से तोहफा पाकर उनकी बहन बहुत खुश हुई।  

ग्रे और ब्लू कलर के कॉम्बिनेशन से सजा घर बहुत ही खूबसूरत  है। सोनू बहन के घर के घर को तैयार करने के लिए शूटिंग से सीधा यहां आया करते थे। इस घर को लेकर उन्होंने काफी मेहनत की है। 

सोनू सूद की दो बहनें हैं। एक बहन विदेश में रहती है और एक मुंबई में। बहनों का बहुत ख्याल रखते हैं वो। 

सोनू सूद सामाजिक कामों के लिए आगे आते रहते हैं। सोनू सूद ने  पिछले दिनों बैंकॉक में चल रहे एनुअल स्पेशल ओलंपिक्स एशिया पैसिफिक के लिए भारतीय बैडमिंटन टीम की मदद करने का फैसला लिया। सोनू के इस काम की इस वक्त खूब तारीफ हुई। 

सोनू ने टीम के ट्रेवल का पूरा खर्चा भी उठाया। रिपोर्ट के मुताबिक, सोनू लगातार टीम के कोच के संपर्क में हैं और उनकी ट्रेनिंग में भी निजी तौर पर इंट्रस्ट ले रहे हैं ताकि टूर्नामेंट के लिए टीम को कब किस चीज की जरूरत पड़ रही है तो वो उसे पूरा कर सकें। सोनू ने खुद एक इंटरव्यू में इस बारे में बताया था।

जब से कोरोना का कहर शुरू हुआ सोनू देश की मदद कर रहे हैं। पहले उन्होंने गरीब मजदूरों को कई दिनों तक खाना खिलाया और अब उन्हें घर भेज रहे हैं।

Related Story