शाहिद की मम्मी नीलिमा से तलाक के बाद कैसे पंकज कपूर बेटे से संबंध सुधारा !

By Neetu May 29, 2020, 5:18 p.m. 1k

रूपाली जायसवाल- हिंदी सिनेमा के मंझे हुए कलाकार पंकज कपूर आज 29 मई को अपना 66वां बर्थडे सेलिब्रेट कर रहे हैं। पंकज कपूर का जन्म 29 मई, 1954 को लुधियाना में हुआ था। पंकज ने अपने बॉलीवुड करियर में कई सुपरहिट फिल्में दी हैं जैसे 'गांधी', 'धर्म' और साथ ही मोस्ट पॉपुलर टीवी शो 'चला मुसद्दी ऑफिस-ऑफिस'। 

जैसा कि आप जानते हैं कि पंकज और शाहिद के बीच की बॉन्डिंग काफी स्ट्रॉन्ग है और हम अक्सर शाहिद और उनकी वाइफ मीरा को फैमिली पिक्चर्स शेयर करते देखते हैं जिसमें पंकज कपूर भी नजर आते हैं। इसी कड़ी में मीरा ने अपने फादर इन लॉ के बर्थडे पर एक ब्लैक एंड व्हाइट पिक्चर शेयर की है और उन्हें स्पेशल बर्थडे विश किया है। 

पिक्चर पोस्ट कर मीरा ने कैप्शन में लिखा है, - "हैप्पी बर्थडे डैड। आपके जितना कूल और वार्म कोई नहीं है। आप बेस्ट डैड हैं जिन्हें हम बेहद प्यार करते हैं।" 

पंकज की पर्सनल लाइफ की बात करें तो उन्होंने दो शादियां की। पहली शादी 1975 में नीलिमा अजीम से की थी जो कि शाहिद की मां हैं। 21 साल के पंकज का दिल 16 साल की नीलिमा पर आ गया था लेकिन उनकी ये शादी लंबी नहीं चली।

इसके बाद पंकज की जिंदगी में एक्ट्रेस सुप्रिया पाठक की एंट्री हुई और आज इनका भरापूरा परिवार है। इसके बावजूद पंकज कपूर अपनी पहली वाइफ और बेटे के साथ डायवोर्स के बाद भी जुड़े हुए हैं। पंकज कपूर को अक्सर अपने ग्रैंड चाइल्ड्स के साथ स्पॉट किया जाता है।वहीं ये भी माना जाता है कि शाहिद का अपनी स्टेप मॉम सुप्रिया पाठक के साथ काफी अच्छा रिश्ता है। 

आपको बता दें कि जब पंकज कपूर और नीलिमा अजीम का डायवोर्स हुआ था तब शाहिद काफी छोटे थे। जिसपर बात करते हुए शाहिद ने एक लीडिंग टेबलाइड को बताया था , "जब मैं तीन साल का था तब मेरे मॉम-डैड अलग हो गए, लेकिन उसके बावजूद मेरा बचपन काफी सीक्योर रहा। मैं और मेरे डैड अक्सर यही कोशिश करते हैं कि हमारा रिलेशन स्ट्रॉन्ग और हेल्थी बना रहे।" शाहिद ने आगे कहा," डैड अक्सर कहते रहते थे कि वो शहर से बाहर जाना चाहते हैं अपनी लाइफ को चिल्ड-आउट करना चाहते हैं जो मुझे बिल्कुल पसंद नहीं आता था, क्योंकि वो मेरी लाइफ का बहुत बड़ा हिस्सा थे। "

शाहिद की इस बात पर जवाब देते हुए पंकज ने इसे एक बड़ा इमोशनल ब्रेक डाउन बताया। पंकज ने कहा, “जैसा कि शाहिद ने कहा, ये समझाना बहुत मुश्किल है। एक डैड के लिए, अपने बेटे से अलग होना आसान नहीं है। शाहिद से अलग होना मेरे लिए एक बहुत बड़ा इमोशनल नुकसान था और मैं इस उम्मीद के साथ जीने लगा कि एक समय आएगा जब हम फिर से एक-दूसरे के करीब आएंगे। और आज, उसके पास बैठना, उसका काम देखना और फैमिली बॉन्डिंग पर उसकी राय सुनना मुझे काफी अच्छा लगता है। यकीनन  मैंने उसे हर दिन याद किया, लेकिन तब कुछ थी। और सबसे बड़ी बात ये है कि जब शाहिद 18 साल का हो गया, तो शाहिद ने थोड़ी देर के लिए मेरी मदद की, इस दौरान हमें एक-दूसरे के साथ बहुत टाइम बिताना पड़ा। फिर, हमने परिवार के साथ छुट्टियों पर जाना शुरू किया, इसलिए बॉन्डिंग बढ़ गई और खासकर जब हम अपने नए घर में ट्रांसफर हुए। ”

हालांकि एक दूसरे इंटरव्यू में कबीर सिंह ऐक्टर शाहिद कपूर ने  एक बच्चे के रूप में अपने डैड के साथ बहुत अधिक बातचीत नहीं करने की बात कुबूल की थी। उन्होंने कहा था, "मेरे बच्चों के साथ मेरा बॉन्ड, मेरे डैड और मेरे बॉन्ड से काफी अलग होगा।"

माना जाता है कि शाहिद कपूर के बच्चों - मीशा और ज़ैन - के जन्म के बाद पंकज कपूर, शाहिद और उनकी फैमिली के और भी करीब आ गए। दूसरी ओर, शाहिद ने भी खुलासा किया था कि अपने बच्चों के जन्म के बाद उन्हें ये महसूस किया कि अपने मॉम-डैड के कॉन्टेक्ट में रहना कितना इंपॉर्टेंट है।

आपको बता दें कि पर्दे पर भी दोनों की जोड़ी खूब जचती है। दोनों को फिल्म 'मौसम' और आखिरी बार 2015 में रिलीज हुई फिल्म 'शानदार' में देखा गया था और जल्द ही दोनों जर्सी में भी एक साथ नज़र आएंगे।

Related Story