फिल्म मेकर अनुराग बासू ने ऋषि कपूर की बीमारी को लेकर किया बड़ा खुलासा !

By Neetu June 13, 2020, 7 p.m. 1k

पूजा राजपूत – अनुराग बासू(Anurag Basu) वो फिल्ममेकर(Filmmaker) हैं जिनके साथ रणबीर कपूर(Ranbir Kapoor) ने अपने करियर की यादगारों फिल्मों में से एक ‘बर्फी’(Barfi) में काम किया था, तो रणबीर को उनके करियर की बिग्गेस्ट फ्लॉप ‘जग्गा जासूस’(Jagga Jasoo)  देने का श्रेय भी डायरेक्टर अनुराग बासू को ही जाता है।

अनुराग बासू के साथ रणबीर का बेहद खास कनेक्शन है। दो फिल्मों में साथ काम करने के बाद अनुराग और रणबीर की दोस्ती काफी गहरी हुई है। इसके अलावा एक और कनेक्शन है जिसकी वजह से अनुराग और रणबीर जुड़ाव महसूस करते हैं।

रणबीर के पिता ऋषि कपूर(Rishi Kapoor) ने ल्यूकेमिया(Leukemia) ब्लड कैंसर से लंबी जंग लड़ी थी। वहीं, डायरेक्टर अनुराग बासू कैंसर सर्वाइवर हैं। 2004 में अनुराग बासू को पता चला था कि वह एक्यूट प्रमाइलोसाइटिक ल्यूकेमा(Acute Promyelocytic Leukemia) से पीड़ित हैं। जिसके बाद अनुराग बासू ने कैंसर से मुश्किल जंग लड़ी और ठीक होकर दोबारा वापिसी की।

अनुराग के मुताबिक जब कपूर परिवार को ऋषि कपूर की कैंसर की बीमारी में पता चला था, तब उन्होने रणबीर से अपना इलाज़ करने वाले डॉक्टर का नाम शेयर किया था। जिसके बाद कपूर परिवार ने भी उन्हें अपने फैसले के बारे में बताया था। अपने इंटरव्यू में अनुराग ने कहा कि “मैं उनकी बिमारी के बारे में जानने वाले पहले लोगों में से एक था। हमने इस बात पर चर्चा की कि उन्हें किस तरह का इलाज लेना पड़ेगा। मैने अपने डॉक्टर का नंबर भी उनके साथ शेयर किया। उन्होने डॉक्टर से बातचीत की, जिसके बाद उन्होने मुझे उनके फैसले के बारे में भी बताया था।“

इसके साथ ही इंटरव्यू में अनुराग बासू ने ऋषि कपूर के साथ हुई आखिरी मुलाकात की याद भी साझा की है।अनुराग ने बताया कि वह ऋषि कपूर से पिछले साल रणबीर कपूर के जन्मदिन के मौके पर 28 सितंबर को मिले थे। उस दिन ऋषि कपूर काफी खुश थे और मस्ती करने के मूड में थे। ऋषि कपूर पूरा केक खा जाना चाहते थे, लेकिन नीतू कपूर ने उन्हें केक खाने से रोक दिया था। क्योंकि इलाज के दौरान ऋषि कपूर को मीठा खाने की इजाजत नहीं थी, लेकिन उस दिन वह अपना डाइट प्लान भूलाकर केक खाना चाहते थें, और नीतू कपूर उन्हें बार-बार रोक रही थीं, जिसकी वजह से दोनों के बीच प्यार भरी तकरार भी हुई थी।

ऋषि कपूर का देहांत इसी साल 30 अप्रैल को मुंबई के एच.एन. रिलायंस फाउंडेशन हॉस्पिटल में हुआ था। जबकि उनका दाह-संस्कार मरीन लाइंस इलाके में स्थित चंदनवाड़ी श्मशान घाट में किया गया था।

Related Story